क्राइम ब्रांच का अधिकारी बताकर बदमाशों ने भेलकर्मी से ऐंठ लिए 1.60 लाख

fraud-with-bhel-employee-two-youth-get-1-60-lakhs--in-bhopal

भोपाल। पिपलानी इलाके में एक भेल के कर्मचारी को युवकों ने खुदको क्राइम ब्रांच का पुलिस अधिकारी बताकर रोक लिया। आरोपियों ने उसको एक मामले में संदेही बताते हुए तलाशी के लिए एक स्थान पर जबजिरया ले गए। वहां दो महिलाओं के साथ में खड़ा कर फरियादी के आपत्तिजनक फोटो लिए। इसके बाद में फोटो वायरल कर बदनाम करने की धमकी देकर भेलकर्मी से एक लाख साठ हजार रूपए एंठ लिए। आरोपियों में से एक फरियादी के मोबाइल पर मैसेज कर और अधिक रकम की मांग करता था। जिससे आरोपियों की पहचान हो गई। पुलिस सूत्रों का कहना है कि तीन युवकों को हिरासत में ले लिया गया है। 

टीआई राकेश श्रीवास्तव के अनुसार अनूप भारती अवधपुरी में रहते हैं। वे भेल में नौकरी करते हैं। अनूप भारती ने बताया कि 12 फ रवरी की शाम वह ड्यूटी से घर लौट रहे थे, तभी सहकारी परिसर के पास उन्हें आधा दर्जन बदमाशों ने रोक लिया। आरोपियों ने खुदको क्राइम ब्रांच का कर्मचारी बताया। उन्होंने कहा कि आप एक मामले में संदेही हो। आपसे पूछताछ करना है और तलाशी लेना है। इसके बाद में आरोपी अनूप भारती को लेकर टनाटन ढाबे के पास किसी घर में पहुंचे। वहां पहले से दो महिलाएं मौजूद थी। आरोपियों ने अनुप से तलाशी के नाम पर कड़पे उतरवा लिए और उक्त महिलाओं के साथ कुछ फ ोटो ले लिए।  फोटो होने के बाद अनूप भारती को आरोपियों ने कहा था कि यदि रुपए नहीं दिए तो उक्त फ ोटो उसके परिवार समेत अन्य लोगों को वायरल कर देंगे।

– एटीएम से निकलवाए पैसे

फरियादी अनुप ने बदनामी क��� डर से सहमे आरोपियों को एटीएम के माध्यम से एक लाख साठ हजार रुपए निकालकर दे दिए थे। रुपए मिलने के बाद आरोपियों ने अनूप भारती को छोड़ दिया था, लेकिन अनूप भारती का मोबाइल नंबर मिलने के कारण आरोपी उन्हें ब्लैकमेल करने लगे। वह और रुपयों की मांग कर रहे थे। अनूप भारती ने उन्हें कहा था कि वह अब रुपए नहीं दे सकते। अनूप भारती ने पुलिस को बताया कि जिस समय आरोपी उन्हें अपने साथ लेकर गए थे, तभी से आरोपी एक दूसरे का नाम ले रहे थे। अनूप भारती को उन पर संदेह हो गया था कि वे क्राइम ब्रांच के नहीं है। हालांकि उन्होंने फ ोटो के डर से पुलिस को शिकायत नहीं दी थी, लेकिन जब आरोपी अड़ीबाजी करने लगे तो पुलिस तक मामला पहुंच गया। अनूप भारती ने बताया कि आरोपी एक दूसरे को योगेंद्र, रवि, दुर्गे के नाम से पुकार रहे थे। पुलिस ने योगेंद्र, रवि, दुर्गे पर नामजद एफ आईआर की है, जबकि दो महिलाओं समेत अन्य लोगों को भी आरोपी बनाया है। जिनकी तलाश की जा रही है।