स्वर्गीय कैलाश सारंग की स्मृति में आयोजित नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का समापन, लाखों हुए लाभान्वित

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। भोपाल मे आयोजित स्वर्गीय कैलाश सारंग की स्मृति में आयोजित देश के सबसे बड़े नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का आज रविवार को समापन हुआ। आज कुल 43418 लोगों ने कैम्प में पहुंच कर अपनी जांच और इलाज करवाया। शिविर के तीनों दिन में लगभग 107922 लोगों ने कैम्प में पहुंच कर अपना इलाज कराया। शिविर में भोपाल सहित सम्पूर्ण मध्यप्रदेश और प्रदेश से लगे उत्तरप्रदेश व छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती जिलों के लोगों ने भी शिविर में पहुँच कर अपना इलाज कराया।

महिला पुलिस अधिकारी ने की डॉक्टर पति के खिलाफ दहेज प्रताड़ना की शिकायत..

सीएम शिवराज और वीडी शर्मा पहुंचे
शिविर के समापन दिवस पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष भी पहुंचे। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने कहा, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का धन्यवाद देता हूं और उन्हें विश्वास दिलाता हूं कि जिस लक्ष्य को लेकर वो मध्य प्रदेश में जनसेवा में लगे है कैलाश प्रसून सारंग फाउंडेशन उस लक्ष्य में अपना योगदान देगा।

कोरोना में सर्वोच्च कार्य का श्रेय मुख्यमंत्री को जाता है
मंत्री सारंग ने कहा, यह बात सही है कि केवल सरकार के भरोसे हर काम नहीं हो सकता समाज के हर वर्ग को इस लक्ष्य को साधने के लिए सरकार के साथ लगना होगा। कोरोना काल मे यदि किसी राज्य ने सर्वोच्च कार्य किया तो वो मध्य प्रदेश ने किया और इसका श्रेय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं मुख्यमंत्री की तारीफ कर चुके है। मंत्री सारंग ने कहा उसी प्रकल्प को हमे आगे बढ़ाया की सरकार के साथ समाज मिल कर और वह जो सबसे ज्यादा शोषित है, जिन्हें इलाज की सबसे ज्यादा जरूरत है उन्हें एक ही मंच पर ला कर हर तरह का इलाज करे हमने वह प्रयास किया है। मंत्री सारंग ने शिविर में सहयोग करने वाली सभी संस्थाओं, चिकित्सकों, चिकित्साकर्मियों, समाजसेवियों और कार्यकर्ताओं का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सभी ने मानवता की सेवा में अमूल्य सहयोग प्रदान किया है।

गुलाब के फूलों की बारिश से महका अशोकनगर, सिंधिया के स्वागत में उमड़ा शहर

कैलाश जी जहां भी होंगे प्रसन्न हो रहे होंगे
मुख्यमंत्री ने स्व. कैलाश सारंग जी की स्मृति में आयोजित नि:शुल्क चिकित्सा शिविर के समापन समारोह में अपने विचार साझा करते हुए कहा कि सेवा में सर्वोत्तम है मरीजों की सेवा करना। बीमारी से पीड़ित की सेवा करना, श्रेष्ठ कार्य है। इस विशाल चिकित्सा शिविर में मरीजों की सेवा करने के लिए मैं आप सभी को बधाई और शुभकामनाएं देता हूं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कैलाश सारंग जी और भाभी जी की स्मृति में हमारे साथी विश्वास सारंग, परिवार के सदस्यों और उनकी टीम ने यह चिकित्सा शिविर लगाकर पुण्य का कार्य किया है। उन्होंने कहा, हमारे अग्रज, श्रद्धेय स्व. कैलाश सारंग जी सेवा के इस पुनीत प्रयास को देखकर, जहां भी होंगे, प्रसन्न हो रहे होंगे। मैं उनके चरणों में प्रणाम करता हूं। आप सभी से मेरा विनम्र निवेदन है कि जिन लोगों ने कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण में दूसरा डोज नहीं लगवाया है, वह इसे तुरंत लगवा लें। कोरोना से बचाव का यह सबसे अचूक उपाय है।

नर सेवा ही नारायण सेवा है
समापन कार्यक्रम में सम्मिलित हुए मध्यप्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने अपने संबोधन में कहा कि नर सेवा ही नारायण सेवा है। सारंग परिवार की इस सराहनीय पहल ने नर सेवा, नारायण सेवा के भाव को चरितार्थ किया है। शर्मा ने मंत्री विश्वास सारंग के सेवा कार्य की प्रशंसा करते हुए कहा कि एक ही छत के नीचे देश के विशेषज्ञ डॉक्टर्स को लाना एवं क्षेत्र की जनता को सभी चिकित्सकीय सुविधाएं निःशुल्क उपलब्ध कराने का यह पूरा मॉडल सभी के लिये एक आदर्श है।

नूरी का दर्द, मुस्लिम हूँ, अध्यक्ष नही बन सकती हूँ, इसलिए दिया पार्टी से इस्तीफा

चिकित्सा शिविर में प्रदेश भर से सैंकड़ो लोग इलाज करवाने पहुंचे। आज शिविर में 43418 लोग पहुंचे जिसमें से 20712 पुरुष और 22706 महिलायें पहुंची| आज 4117 लोगो के X-ray और 8610 लोगों की खून की जांच हुई है। शिविर में बड़ी संख्या में लोग ने सुबह से पहुंचकर अपना स्वास्थ्य परीक्षण कराकर लाभ लिया। मुख्यमंत्री चौहान ने शिविर में अपनी सेवाएँ देने आए मणिपाल अस्पताल नई दिल्ली के हार्ट सर्जन डॉ. युगल मिश्र, टाटा कैंसर हॉस्पिटल मुंबई के डॉ. अमित जोशी, बॉम्बे अस्पताल मुंबई के कैंसर विशेषज्ञ डॉ. दिलीप निकाम, टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल के रेडियोलॉजिस्ट डॉ. सुयश कुलकर्णी, जे.जे. अस्पताल मुंबई के डॉ. अशोक आनंद, बॉम्बे हॉस्पिटल के किडनी विशेषज्ञ डॉ. श्रीरंग बिचु, इंदौर के डॉ. मोहित भंडारी तथा इंदौर के कैंसर विशेषज्ञ डॉ. राकेश तारण आदि का सम्मान किया।

मुख्यमंत्री चौहान ने शिविर में पंजीयन एवं प्रवेश केंद्र, पैथोलॉजी सैंपल कलेक्शन केंद्र, ओपीडी, नि:शुल्क दवा वितरण केंद्र, गांधी चिकित्सा महाविद्यालय द्वारा लगाए गए स्टॉल, चिरायु मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल भोपाल तथा अरबिंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस इंदौर के स्टालों और सिकल सेल एनीमिया जाँच एवं परामर्श केंद्र तथा नि:शुल्क दवा वितरण केंद्र का अवलोकन किया।