मध्यप्रदेश सरकार चिंतन शिविर के लिए भोपाल से पचमढ़ी की ओर हुई रवाना

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली राज्य सरकार के मंत्रिमंडल की चिंतन बैठक 26 और 27 मार्च को पचमढ़ी में आयोजित की जा रही है। बैठक के एजेंडे के अनुसार इसमें मध्य प्रदेश के विकास के लिए विभिन्न महत्वपूर्ण योजनाओं एवं विषयों पर चर्चा की जाएगी। बैठक में शामिल होने के लिए भोपाल से शुक्रवार देर शाम सी एम हाउस से मंत्रिमंडल के 30 सदस्यों का दल पचमढ़ी के लिए रवाना हुआ।  बैठक 26 मार्च को सुबह 10 बजे मुख्यमंत्री के संबोधन के साथ शुरू होगी। चिंतन बैठक में दोनों दिन विभिन्न महत्वपूर्ण योजनाओं एवं विषयों पर सत्र होंगे।

यह भी पढ़ें… MP : शिक्षक उम्मीदवारों के लिए शासन की तैयारी, मंत्री इंदर सिंह परमार ने किया आदेश जारी, मिलेगा बड़ा लाभ

 बैठक के दौरान भाजपा के कई पदाधिकारी और कार्यकर्ता भी पचमढ़ी पहुंचेंगे।  बैठक समाप्त होने के बाद बस से ही कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मंत्रियों को भोपाल लाया जाएगा। इस बैठक को 2023 में होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर अहम मानी माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि सरकार ने चुनाव की तैयारियों को लेकर यह बैठक करने जा रही है। इसमें राज्य के हित में कुछ बड़े फैसले भी लिए जा सकते हैं, शुक्रवार शाम को बैठक में शामिल होने मुख्यमंत्री शिवराज के साथ गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा, कृषि मंत्री कमल पटेल,सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया,तुलसी सिलावट अन्य मंत्रीगण बस से रवाना हुआ।

यह भी पढ़ें…भिंड पुलिस के हत्थे चढ़ा नकली नोट बनाने वाला गिरोह

मुख्यमंत्री का बयान शिवराज सिंह चौहान का बयान

शुक्रवार देर शाम मध्यप्रदेश की पूरी कैबिनेट 2 दिन के चिंतन के लिए साथ में पचमढ़ी के लिए रवाना हो गई, इस मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा- आज हम पचमढ़ी के लिए रवाना हो रहे है, बीच में भी हम चिंतन की बैठक करते रहे हैं लेकिन पिछले 2 साल में कोरोना की भयानक लहर के कारण काफी तकलीफ में गए है लेकिन उन कठिन परिस्थिति में भी कैबिनेट की पूरी टीम ने मिलकर न केवल कोविड के कहर से जनता को सुरक्षित रखने का काम किया बल्कि प्रदेश के विकास के काम को भी नहीं थमने दिए।जन कल्याणकारी योजनाओं का भी बेहतर क्रियान्वन किया।अब हम आगे का रोडमैप बना रहे हैं।आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का लक्ष्य हमारा तय है लेकिन एक बार फिर से जन कल्याणकारी योजनाएं जो लगातार जारी है उनकी हम समीक्षाएं करेंगे उन योजनाओं में कहीं सुधार की आवश्यकता होगी तो उसको भी तय करेंगे। कुछ समस्याएं प्रदेश के सामने हैं उनका रास्ता निकालेंगे। प्रदेश को और तेजी से विकास के रास्ते पर कैसे ले जाएं समाज के हर वर्ग का कल्याण कैसे करें उसकी रूपरेखा बनाएंगे