पर्यटन को बढ़ावा देने राम वन गमन पथ, रामायण सर्किट विकसित करेगी सरकार

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट
मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने शनिवार को कहा कि सरकार पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए राज्य में राम वन गमन पथ और रामायण सर्किट विकसित करेगी। सीएम मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में राष्ट्रीय ध्वज फहराने के बाद राज्य स्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह में बोल रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा प्रदेश में थीम आधारित पर्यटन सर्किट अमरकंटक सर्किट, रामायण सर्किट, तीर्थंकर सर्किट, नर्मदा परिक्रमा आदि और अनुभव आधारित पर्यटन जैसे-डायमण्ड टूर, साड़ी मेकिंग टूर को बढ़ावा दिया जाएगा। चित्रकूट से लेकर अमरकंटक तक राम वन गमन पथ का विकास एवं सौंदर्याकरण किया जायेगा। राष्ट्रीय उद्यानों के बफर क्षेत्र में ‘बफर में सफर’ योजना प्रारंभ की जायेगी। इससे जिससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

उन्होंने कहा, नर्मदा नदी मध्य प्रदेश की जीवन रेखा है। नर्मदा एक्सप्रेसवे को इस नदी के किनारे के क्षेत्रों में विकसित किया जाएगा। राज्य को समृद्ध बनाने के लिए मार्ग के साथ औद्योगिक क्लस्टर भी विकसित किए जाएंगे। इसके साथ ही चंबल प्रोग्रेस वे को भी विकसित किया जाएगा। अमरकंटक से होकर अलीराजपुर के रास्ते गुजरात को जाने वाले लगभग 1300 किलोमीटर लंबाई के नर्मदा एक्सप्रेस-वे से जुड़े चिन्हित क्षेत्रों में नया निवेश लाया जाएगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान की प्रमुख घोषणाएँ

  • नि:शुल्क खाद्यान्न प्रदाय का महाअभियान आरंभ होगा।

  • ‘मेधावी विद्यार्थी योजना’ तथा सभी विद्यार्थियों के लिए नि:शुल्क पढ़ाई की व्यवस्था।

  • मेधावी विद्यार्थियों को वितरित होंगे लैपटॉप।

  • प्रदेश में प्रारंभ होंगे सर्व-सुविधायुक्त और गुणवत्तापूर्ण ‘सीएम राइज स्कूल’

  • महिला स्व-सहायता समूहों को इस वर्ष 1300 करोड़ रुपये से अधिक का ऋण 4 प्रतिशत ब्याज दर पर दिया जाएगा।

  • ‘एक जिला एक उत्पाद’ के सिद्धांत पर होगी जिलों की ब्रांडिंग।

  • बेटियों की पूजा से आरंभ होंगे शासकीय कार्यक्रम। बेटी बचाओ अभियान नए सिरे से प्रारंभ होगा।

  • आदिवासियों एवं गरीबों को साहूकारों के चंगुल से मुक्त कराने का अभियान। नियमों के विपरीत 15 अगस्त 2020 तक दिए गए ऋण शून्य होंगे। आवश्यक कानून लाया जाएगा।

  • पुलिस कर्मियों के लिए भोपाल में बनेगा 50 बिस्तरीय सर्व-सुविधायुक्त अस्पताल।

  • 2023 तक 1 करोड़ नल कनेक्शन का लक्ष्य। हर घर तक नल के माध्यम से जल।

  • सभी नागरिक सुविधाएँ ऑनलाइन उपलब्ध करायी जाएंगी।

  • नर्मदा एक्सप्रेस-वे से नर्मदांचल में उद्योगों, ईको टूरिज्म और धार्मिक गतिविधियों को प्रोत्साहन।

  • नये उद्योगों की स्थापना में सरलता के लिए ‘स्टार्ट योर बिजनेस इन थर्टी डेज’ योजना प्रारंभ होगी।

  • प्रदेश के नागरिकों का ‘सिंगल सिटीजन डाटाबेस’ तैयार होगा।

  • ग्रामीण जनता को उनके आवासीय भूखंड पर मालिकाना हक दिया जाएगा।

  • कर्मचारियों को देय सभी लाभ दिए जाएंगे।

  • कोरोना काल की तरह आगे भी गरीबों के लिए सस्ती बिजली।