इस जिले में भाजपा की गुटबाजी चरम पर, बोधसिंह भगत के खिलाफ शिकायत

groupism-in-bjp-in-balaghaat-

भापाल। बालाघाट संसदीय क्षेत्र में भाजपा की अंदरूनी कलह लगातार बढ़ रही है। यहां परस्पर विरोधी खेमे की गुटबाजी चरम पर है। लिहाजा डेमेज कंट्रोल के लिये भाजपा के संगठन महामंत्री सुहास भगत बालाघाट पहुंच गये हैं। जहां वे बुधवार को सभी गुटों के साथ बैठक कर स्थिति को संभालने की कोशिश करेंगे। इस बीच मंगलवार को सांसद बोधसिंह भगत के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने को लेकर पुलिस थाने में शिकायत की गई है।

यह शिकायत वारासिवनी थाने के तहत की गई है। शिकायत छगन हनवत नाम के व्यक्ति ने की है, जो कि भाजपा का ही कार्यकर्ता है। छगन की शिकायत बालाघाट में सोशल मीडिया में दिनभर वायरल होती रही और इसे लकर चर्चाओं का दौर शुरू हो गया। छगन को पूर्व मंत्री और विधायक गौरीशंकर बिसेन का समर्थक माना जाता है। इस शिकायत को बिसेन से जोडक़र देखा जा रहा है कि उनके उकसावे पर ही पुलिस में शिकायत की गई है। शिकायत में मौजूदा सांसद बोधसिंह भगत पर गाली गलौच करने और मारने की धमकी देने का आरोप लगाया गया है। यहां बता दें कि भाजपा ने मौजूदा सांसद बोधसिंह भगत का टिकट काटकर ढालसिंह बिसेन को टिकट दे दिया है। समझा जाता है कि ढाल सिंह बिसेन की पैरवी गौरीशंकर बिसेन ने ही की थी। बालाघाट जिले की अंदरूनी राजनीति में गौरीशंक�� बिसेन और बोधसिंह भगत को परस्पर एक- दूसरे का कट्टर विरोधी माना जाता है। इधर बोधसिंह अब भी मोर्चें पर डटे हुए हैं और उन्होंने टिकट की आस नहीं छोड़ी है। वे मानकर चल रहे हैं कि पार्टी उन्हें ही फार्म बी आवंटित करेगी। इस तरह के हालात को देखते हुए यहां स्थानीय नेताओं में लगातार टकराव की स्थिति बन रही है, जिसे संभालना लगातार मुश्किल होते जा रहा है। एेसे में अब भाजपा के दिग्गज रणनीतिकारों को मोर्चा संभालना पड़ गया है।