मप्र में भारी बारिश का दौर जारी, नदी-नाले उफान पर, 26 जिलों में ALERT

heavy-rainfall-in-continue-in-madhya-pradesh-

भोपाल| मध्य प्रदेश के लगभग सभी स्थानों पर मानसून मेहरबान है। लगातार हो रही बारिश से प्रदेश के कई शहरों में नदी नाले उफान पर हैं। जबलपुर में तो निचले इलाकों में जलभराव तक हो गया। वहीं मालवा निमाड़ में लगातार बारिश से कई जगह नदियाँ उफान मार रही है| शुक्रवार को प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर बरसात हुई। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक वर्तमान में कम दबाव के क्षेत्र का रुख उत्तरप्रदेश की तरफ हो गया है,लेकिन उसके प्रभाव से दक्षिण-पश्चिमी मप्र में तेज बौछारें पड़ रही हैं। इसी क्रम में शनिवार को ग्वालियर,सागर संभाग में कहीं-कहीं भारी बरसात होने की भी संभावना है। इस दौरान भोपाल में भी तेज बौछारें पड़ सकती हैं। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आगामी 24 घंटों में राज्य के कई हिस्सों में बारिश हो सकती है। प्रदेश के 26 जिलों में भारी और कहीं-कहीं अति वृष्टि का अनुमान है।

नागदा में चंबल नदी भी बारिश होने से उफान पर है। यहां शुक्रवार को कैचमेंट एरिया में लगातार बारिश होने चामुंडा माता मंदिर डूब गया। शहर के मध्य से होकर बहने वाले नाले भी उफान पर होने से निचली बस्तियों में पानी भरा गया, जबकि नाले किनारे के कुछ मकानों एवं दुकानों को नुकसान भी पहुंचा।  पानी की निकासी नहीं होने से घरों में लगभग दो से तीन फीट तक पानी भरा गया। नगरपालिका की सहायता नहीं पहुंचने से नागरिकों में आक्रोश दिखाई दिया। शहर सहित आसपास के क्षेत्रों में कभी झमाझम तो कभी रिमझिम बारिश से नदी नाले उफान पर आ गए। पानी की निकासी नहीं होने से पॉश कॉलोनी के मकानों में लगभग दो से तीन फीट तक पानी भरा गया, रातभर लोग जलस्तर कम होने का इंतजार करते रहे, लेकिन बेबस थे। इन क्षेत्रों में नगरपालिका के अधिकारियों व कर्मचारियों के पहुंचना तो ठीक खाद्य सामग्री तक नहीं मिली, जिससे लोगों का आक्रोश फुट गया। 

मौसम विभाग के मुताबिक अति कम दबाव का क्षेत्र वर्तमान में पूर्वी मप्र.और उससे लगे उप्र. पर सक्रिय है। दक्षिणी गुजरात पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। साथ ही एक ट्रफ(द्रोणिका लाइन)राजस्थान से पूर्वी मप्र पर बने लोप्रेशर क्षेत्र से होकर बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। इस वजह से बंगाल की खाड़ी और अरब सागर दोनों स्थानों से नमी आने का सिलसिला बना हुआ है। इससे पूरे प्रदेश में बरसात हो रही है। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक शुक्रवार को सुबह 8:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक टीकमगढ़ में 40,उज्जैन में 31.9,श्योपुरकला में 24,शाजापुर में 20,इंदौर में 16,रतलाम में 14.6,पचमढ़ी में 8,ग्वालियर में 5.6,होशंगाबाद में 5,सीधी में 3,सतना में 2 और भोपाल में 1.2 मिमी. बरसात हुई।

मंदसौर की शिवना नदी खतरे के निशान से ऊपर

मंदसौर में शिवना नदी उफान पर है, रतलाम जिले में चंबल का पानी तेजी से बढ़ रहा है तो नालों में बाढ़ के हालात बने है। बताया जाता है कि थोड़ा पानी और गिरा तो शिवना के तट पर बना तेज बारिश के कारण बुधवार की रात से मंदसौर, रतलाम व नीमच में कई रास्ते बंद है। कॉलोनियों और खेतों में जलजमाव के कारण लोग और किसान परेशान है।

khandwa