यहां ग्रामीणों ने किया मतदान का बहिष्कार, अधिकारी पर लगाए कांग्रेस के पक्ष में वोटिंग कराने के आरोप

Here-villagers-boycott-voting

भोपाल

मप्र के तीसरे चरण की आठ लोकसभा सीटों मुरैना, भिंड, ग्वालियर, गुना, सागर, विदिशा, भोपाल और राजगढ़ के लिए मतदान जारी है। अब तक 26.40 प्रतिशत मतदान हो चुका है।  सुबह से ही पोलिंग बूथ पर मतदाताओं के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया है। इस बीच कई जगहों से हंगामें, विवाद, बहिष्कार और ईवीएम मे खराबी की खबरे सामने आ रही है। इसी कडी में सांची विधानसभा की शाहपुर भरतीपुर पंचायत , राजगढ़ लोकसभा सीट के नर्सिंगढ़ कुकल्याखेड़ी  और सागर लोकसभा के गिरोल गांव में मूलभूत सुविधाएं ना होने के काऱण ग्रामीणों ने चुनाव का बहिष्कार कर दिया है। वही खबर लगते ही अधिकारी गांव वालों को मनाने पहुंचे है। लगातार ग्रामीणों को मनाने की कोशिश की जा रही है।

         दरअसल, मप्र के सांची विधानसभा की शाहपुर भरतीपुर पंचायत के पांच गांव वालो कालिटोर, पिपरई, खेड़ा, टपरा और मुनारा ने मतदान का बहिष्कार कर दिया है। ग्रामीणों यहां सड़क नही बनने को लेकर नाराज है और मतदान करने नही जा रहे है।वही राजगढ़ लोकसभा सीट के नर्सिंगढ़ कुकल्याखेड़ी में भी लोगों ने मतदान बहिष्कार कर दिया है। यहां ग्रामीणों 2016 का बीमा नहीं मिलने से नाराज है और  वोटिंग का बहिष्कार करे रहे है।इसके अलावा सागर लोकसभा के गिरोल गांव में भी ग्रामीण मतदान करने नहीं पहुंचे है। पानी की समस्या को लेकर ग्रामीण परेशान है और मतदान का बहिष्कार कर रहे है।यहां अबतक  944 में से केवल 8 वोट पड़े।बहिष्कार की लगातार मिल रही खबरों के चलते अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए है। वे ग्रामीणों को मनाने पहुंचे है, अधिकारियों द्वारा उन्हें वोट करने की समझाइश दी जा रही है।

इसी तरह मुरैना में मतदान क्रमांक 264 अजीतपुरा गांव में ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार कर दिया है। ग्रामीणों का आरोप है कि पीठासीन अधिकारी ग्रामीणों पर कांग्रेस के पक्ष में मतदान करने का दबाव बना रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि जो मतदाता बात नहीं मान रहा उसको पीठासीन अधिकारी दस्तावेज में उलझा रहा है। इसी वजह से ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार कर दिया है। वहीं संबंधित मामले में पूछे जाने पर पीठासीन अधिकारी ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। पीठासीन का कहना है कि ग्रामीण दस्तावेज नहीं ला रहे, जिसके बिना मतदान करना गलत है।