गणतंत्र दिवस के अवसर पर बनाई गई मानव श्रृंखला, राष्ट्रगान के बाद किया गया संविधान की प्रस्तावना का वाचन

भोपाल। नागरिकता संशोधन अधिनियम के मुद्दे पर विगत 26 दिन से भोपाल के इक़बाल मैदान पर चल रहे निरंतर सत्याग्रह के दौरान आज गणतंत्र दिवस के अवसर पर हजारों की संख्या में शहर के नागरिकों ने उपस्थित होकर मानव श्रृंखला आयोजित की। इस अवसर पर सत्याग्रहियों ने सर्वप्रथम समवेत रूप से राष्ट्रगान गाया और फिर भारत के संविधान की प्रस्तावना का वाचन किया। राष्ट्रवाद के मुद्दे पर दिल्ली से आई मैमूना मुल्ला ने वक्तव्य प्रदान किया।

हमीदिया अस्पताल से मोती मस्जिद तक फैली मानव श्रृंखला में बड़ी संख्या में महिलाएं, छात्र और नौजवान शामिल हुए। मानव श्रृंखला के समापन के बाद सत्याग्रह स्थल पर आयोजित आमसभा को प्रदेश के विभिन्न स्थानों से आये विभिन्न तबकों के प्रतिनिधि वक्ताओं ने अपनी बात रखी। वक्ताओं ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा लाया गया नागरिकता संशोधन कानून का निशाना हिन्दू या मुसलमान नहीं बल्कि भारत का संविधान है जिसे वे बहुत पहले से खत्म करना चाहते हैं। अतः सीएए और एनआरसी के खिलाफ देश भर में जो जन आंदोलन चल रहा है वह वास्तव में इस देश के लोकतंत्र और संविधान को बचाने की लड़ाई है। वक्ताओं ने कहा कि मोदी जी को रजिस्टर बनाने का बहुत शौक है तो देश में गरीबों और बेरोजगारों का रजिस्टर बनायें ताकि गरीबी और बेरोजगारी को खत्म किया जा सके। वक्ताओं में हमीदा बी, नंदकिशोर मेहर,अंशुल त्रिवेदी, कमरुद्दीन, आदि प्रमुख थे।