बुंदेली बौछार : अगर किसानों की ‘कर्जमाफी’ हमाई सरकार में होती तो ?

If-the-farmers'-debt-forgiveness-was-in-the-government-then-

अगर किसानों की कर्ज माफी हमाई सरकार में होती तो ? 

लघुकथा बुंदेली में 

सचिन चौधरी #बुंदेली बौछार

सुनो, 

कल हम कर्जा माफ कर रए

कित्ते को …5 करोड़ को 

जी साब..

हमाए लाने का आदेश 

एक काम करो 

कंजे मियाँ खों बुलाओ

वाटर प्रूफ बड़ो टेंट लगवाओ 

अरे साब – बारिश की तो कोनो भविष्यवाणी नईयां

तो का हो गई , किसानों के दर्द में हम अंसुआ ढारे

.. फालतू की बात करा लो.. जो के रए .. चुपचाप करो

जी साब

सुनो वे लाइव के टेंडर आ गए

जी सर.. फुल दुकान सेट

50 जिलों में 51 जगह से लाइव हुईये

1 ज्यादा काहे

अब सर सब आपकी जानकारी में है.. एकाध बढ़ जाए..

ओके ओके 

और वो विज्ञापन को का भओ

जी सर रेडी है… फर्जियों खों फुल पेज, ठीक ठाक खों हाफ पेज और असली वारों खों भुंटियों को इंतजाम कर दओ… 

बढ़िया.. कुल बजट 15 करोड़ हो गओ..

ठीक है.. अब केन्द्र से ताऊ खों बुलावा भेज दो..

जल्दी रिसा जात वे 

जी सर

और सुनो.. तीन चार हमाए टाइप चेहरा पे चमक वारे करोड़पति किसानों को इंतजाम करके रखियो..मंच के आस पास 

पिछली बेर तुमने असली फटे हाल किसान बुला लये ते

खामखा पूरो फ़ोटू एल्बम खराब हो गओ 

चलो अब निकल लो.. डेढ़ घंटा की कैसेट की तैयारी करने…