काशी विश्वनाथ की यात्रा पर जाना चाहते हैं तो जल्दी करें आवेदन, मंत्री ने की तैयारियों की समीक्षा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। शिवराज सरकार प्रदेश के लोगों को काशी विश्वनाथ के दर्शन कराएगी। ये संभव हो रहा है पिछले 3 साल से बंद तीर्थ दर्शन योजना के पुनः शुरू होने से। तीर्थ दर्शन योजना (Tirth Darshan Yojna)की तैयारियों की समीक्षा आज संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर (Minister Usha Thakur ) ने करते हुए अधिकारियों को निर्देश दिए कि 7 अप्रैल तक सभी के आवेदन प्राप्त कर लिए जाएँ।  19 अप्रैल को सभी यात्री स्पेशल ट्रेन से काशी विश्वनाथ की धार्मिक यात्रा पर जायेंगे। मंत्री ने कहा कि वे यात्रियों की सेवाकर इस अवसर का पुण्य लाभ भी लेंगी।

मंत्री उषा ठाकुर ने आज तीर्थ दर्शन यात्रा की तैयारियों की समीक्षा की।  उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) की महत्वाकांक्षी योजना मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना 19 अप्रैल से पुनः प्रारंभ की जा रही है। आदि गुरू शंकराचार्य द्वारा शुरू की गई तीर्थाटन संस्कृति को आगे बढ़ाने का संकल्प मुख्यमंत्री ने लिया है। हम सभी को तीर्थ यात्रियों को प्रेम और आत्मीयता से तीर्थ यात्रा करानी है। मंत्री उषा ठाकुर ने सीहोर, रायसेन, विदिशा, सागर, टीकमगढ़ और दमोह जिले के कलेक्टर और प्रभारी अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग से यात्रियों की आवेदन प्रक्रिया और स्टेशन तक यात्रियों को सुविधापूर्वक लाने के लिए निर्देशित किया।

ये भी पढ़ें – MP : सीएम शिवराज देंगे सौगात, शहरी और ग्रामीण जनता दोनों को होगा लाभ

मंत्री सुश्री ठाकुर ने कहा कि यात्रा के सुचारू संचालन के लिए सभी नोडल अधिकारी पूर्व तैयारी सुनिश्चित करें। यात्रियों को कोई असुविधा का सामना न करना पड़े। सभी जिलों में यात्रा का व्यापक प्रचार प्रसार करते हुए 7 अप्रैल तक आवेदन प्राप्त करें। आवेदनों की स्क्रूटनी करते समय विधानसभावार यात्रियों के समान प्रतिनिधित्व का ध्यान रखें। चयनित आवेदनों को 12 अप्रैल तक आईआरसीटीसी के संबंधित अधिकारी को प्रेषित करें, जिससे यात्रियों के आईडी कार्ड समय पर आईआरसीटीसी से जिलों को प्राप्त हो सके। आईडी कार्ड में यात्री का नाम, उम्र, कोच नंबर और सीट नंबर का स्पष्ट रूप से उल्लेख हो।

यात्रा समाप्ति पर यात्रियों को स्मृति चिन्ह करें भेंट

मंत्री सुश्री ठाकुर ने निर्देशित किया कि तीर्थ यात्रियों को यात्रा के संस्मरण के रूप में यात्रा समाप्ति पर स्मृति चिन्ह भेंट करें। रेल के डब्बे पर जिला के नाम के स्टिकर लगाए, जिससे यात्रियों को कोच ढूंढने में आसानी हो। ट्रेन में सेंट्रलाइज्ड साउंड सिस्टम की व्यवस्था रखें। ट्रेन में भजन मंडलियों को भी रखे। यह मंडलियाँ यात्रियों को सुबह-शाम प्रार्थना और दिन में भजन कर प्रभु से जोड़े रखेगी।

ये भी पढ़ें – उमा के पत्थर पर बोले मंत्री जी, ‘दुकानदार कराए FIR, सरकार थोड़ी कराएगी,

यात्रा के दौरान मंत्री करेंगी तीर्थ यात्रियों की सेवा

मंत्री सुश्री ठाकुर ने कहा कि काशी विश्वनाथ तीर्थयात्रा यात्रियों के साथ वह स्वयं भी यात्रा में शामिल होंगी। यात्रियों की सेवा कर आशीर्वाद का सुअवसर उन्हें प्राप्त हुआ हैं। मंत्री सुश्री ठाकुर ने कहा कि इसी योजना में बुजुर्गो के आशीर्वाद से मुख्यमंत्री श्री चौहान श्रवण कुमार के नाम से जाने जाते हैं। मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना को सार्थकता के चरम तक पहुंचाएँ, जिससे प्रदेश का मान बढ़े और बुजुर्गों का आशीर्वाद मिले।

ये भी पढ़ें – शिवराज कैबिनेट के बड़े फैसले- 5 नए औद्योगिक क्षेत्रों की स्थापना, इस योजना में बड़ा बदलाव

काशी विश्वनाथ तीर्थ यात्रा 19 से 22 अप्रैल तक

मंत्री सुश्री ठाकुर ने बताया कि तीर्थ यात्रा 19 अप्रैल को रानी कमलापति रेलवे स्टेशन से प्रारंभ होकर सागर में रुकते हुए बनारस पहुँचेगी। तीर्थदर्शन यात्रा में भोपाल, सीहोर, रायसेन, विदिशा, सागर, टीकमगढ़ और दमोह जिले के तीर्थ यात्री शामिल होगें। सीहोर एवं रायसेन जिले के यात्रियों का बोर्डिंग भोपाल (रानी कमलापति) स्टेशन होगा और सागर स्टेशन पर सागर, टीकमगढ़ और दमोह जिले के तीर्थ यात्री ट्रेन में बैठेंगे। जिलों से तीर्थ-यात्रियों को स्टेशन लाने की सुविधा जिला प्रशासन द्वारा की जाएगी। यात्रा के लिए 60 वर्ष या उससे अधिक आयु (महिलाओं के लिए 02 वर्ष छूट) के नागरिक अपने निकटतम तहसील, स्थानीय निकाय, जनपद कार्यालयों में आवेदन कर सकेंगे। यात्रा का संचालन आकर्षक और प्रेरक तरीके से किया जाएगा।