तब्लीग की छह बातों से निकला इंसानियत का सातवां अध्याय

भोपाल। आलमी तब्लीगी इज्तिमा का उद्देश्य लोगों को जोडऩा, दीन के रास्ते का सबक देना और इस नेक रास्ते पर चलते रहकर दुनिया और आखिरत की कामयाबी हासिल करने का होता है। दुनियाभर में होने वाले इस तरह के धार्मिक समागम में किए जाने वाले बयानों का केन्द्र तब्लीग की बातों पर टिका होता है। ईमान, नमाज, इल्म और जिक्र, इख्लास-ए-नीयत, दावत और तब्लीग की बातों से बाहर निकलकर इस साल के इज्तिमे मेंं इंसानियत और भाईचारे का सातवां सबक उभरकर आया है। सभी धर्मों के धार्मिक विद्धानों ने एक मंच आकर आने सभी जमातियों का इस्तकबाल कर अमन, शांति, भाईचारे, साम्प्रदायिक सौहाद्र और एक-दूसरे के साथ जुड़े रहने का नारा बुलंद किया है।

जमीयत उलेमा हिंद की प्रदेश इकाई के सदर हाजी मोहम्मद हारून ने इस कवायद के सिरे को माला में पिरोया है। सर्वधर्म एकता और आपसी भाईचारे की धारणा को लेकर पिछले कई दिनों से काम कर रहे हाजी हारून ने सभी धर्मों के धर्मगुरूओं के साथ देश-दुनिया से आने वाले जमातियों के इस्तकबाल का आयोजन कर एक नई तहरीर लिख डाली। आयोजन इज्तिमा के पहले दिन से ही शुरू हो गया है। जिसमें सभी धर्मगुरू भोपाल टॉकीज चौराहा पर पहुंचकर आने वाले जमातियों का इस्तकबाल कर रहे हैं। 

धर्मगुरूओं ने कहा :

पं. नरेन्द्र ने कहा कि धर्म के मायने होते हैं धारण करने के। जो एक-दूसरे के सुख-दुख और आपसी समन्वय की धारणा को धारण करेगा,वही सच्चे मायनों में धार्मिक कहलाएगा। ज्ञानी दिलीप सिंह का कहना है कि हर मजहब यही सिखाता है कि दूसरे का सम्मान,आदर और उसकी आस्थाओं की कद्र करो। खुशी की बात है कि हमारे हाथ जमातियों से हाथ मिलाने और उनकी खिदमत करने का मौका आया है। फादर आनंद मुटुंगल ने कहा कि राजधानी की आलमी तब्लीगी इज्तिमा न सिर्फ शहर, प्रदेश या देश में बल्कि सारी दुनिया में जाना-पहचाना जाता है, इसमें शामिल होने वाले लोगों का इस्तकबाल कर हमने सारी दुनिया की खिदमत करने का पुण्य कमा लिया है। बौद्ध धर्म के भंते राहुल ने इस आयोजन को एक नए इतिहास का पहला अध्याय बताते हुए इसके दूरगामी परिणाम आने की बात कही। इस मौके पर जमीअत उलमा मध्यप्रदेश के हाजी इमरान, मोहम्मद कलीम एडवोकेट, वरिष्ठ पत्रकार लज्जाशंकर हरदेनिया, मुफ्ती मोहम्मद राफे, टीआर गहलोत, अक्षय ध्यानबद्ध, ऑल इंडिया औलेमा बोर्ड के प्रदेशाध्यक्ष काजी सैयद अनस अली नदवी आदि भी मौजूद थे। सर्वधर्म मंच द्वारा जमातियों के इस्तकबाल का आयोजन निरंतर जारी रहने वाला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here