कमलनाथ कैबिनेट की अहम बैठक आज, इन प्रस्तावों पर लग सकती है मुहर

भोपाल।आज मंगलवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक होने वाली है। बैठक में कई अहम प्रस्ताव रखे जाएंगे। जिसमें विधानसभा अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष का स्वेच्छानुदान बढ़ाने का प्रस्ताव के साथ साथ एक दर्जन से अधिक प्रस्तावों को मंजूरी दी जा सकती है। अनुसार विस अध्यक्ष के स्वेच्छानुदान की राशि के कारण यह मामला अटका हुआ है। इसके संबंध में मुख्यमंत्री ही अंतिम निर्णय करेंगे कि उसमें कितनी वृद्धि की जाए।

प्रदेश के कैबिनेट मंत्रियों का स्वेच्छानुदान पिछले दिनों 50 लाख से बढ़ाकर एक करोड़ रुपए कर दिया गया है। राज्य मंत्रियों के लिए यह राशि 35 लाख से 60 लाख रुपए की गई है। हालांकि इस समय प्रदेश में सभी 28 कैबिनेट मंत्री हैं। विधानसभा सचिवालय ने विस अध्यक्ष, उपाध्यक्ष व नेता प्रतिपक्ष का स्वेच्छानुदान बढ़ाने का प्रस्ताव भेजा था। इसमें उपाध्यक्ष व नेता प्रतिपक्ष की अनुदान राशि कैबिनेट मंत्रियों के बराबर 50 लाख से एक करोड़ रुपए करने का प्रस्ताव है। उम्मीद है कि 16 मार्च से शुरू होने वाले विधानसभा सत्र के पहले इसे कैबिनेट की मंजूरी मिल जाएगी। बजट सत्र से पहले यह कैबिनेट बैठक बेहद अहम मानी जा रही है।

इन प्रस्तावों को मिल सकती है मंजूरी
-राजस्व विभाग का अहम प्रस्ताव कैबिनेट में लाया जाएगा, जिसमें किसी को भी मुफ्त में जमीन ने दिया जाएगा।
-नजूल निवर्तन निर्देश 2020 का प्रस्ताव भी बैठक में रखा जाएगा। राम वन गमन पथ के निर्माण का भी प्रस्ताव लाया जाएगा।
-मुख्यमंत्री कन्या विवाह/निकाह की राशि दो किस्तों में देने का प्रस्ताव रखा जाना है।
-विधानसभा अध्यक्ष की स्वेच्छानुदान राशि 1 करोड़ से बढ़ाकर 2 करोड़ करने का भी प्रस्ताव लाया जाएगा।
-विधानसभा उपाध्यक्ष का स्वेच्छानुदान 50 लाख से बढ़ाकर 1 करोड़ करने का भी प्रस्ताव रखा जाएगा। -चिकित्सा महाविद्यालय इंदौर को सुपर स्पेशयलिटी बनाने का भी प्रस्ताव है।

-भोपाल इंदौर जबलपुर ग्वालियर शहरों की नजूल की जमीन पर स्थित कालोनियों को वैध करने पर भी मंत्रिमंडल की बैठक में होगा विचार।

-राजनीतिक दलों और चेरिटेबल ट्रस्ट को दी जाने वाली सरकारी जमीनों के नियमो में भी बदलाव का प्रस्ताव।

-अजा-जज विद्यार्थियों के लिए विदेश में अध्ययन के लिए छात्रवृत्ति।

-समग्र सुरक्षा विस्तार अधिकारी पर बैगा सहारिया व भारिया को छूट।

-हाईब्रिड नवकरणीय ऊर्जा व एनर्जी स्टोरेज की नीती लागू करना

-पॉवर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here