साध्वी की ‘मौन-तपस्या’ पर यह क्या कह गए मंत्री पटवारी

jitu-patwari-again-controversial-comment-on-pragya-thakur

भोपाल।  अपने तीखे और विवादित बयानों से देश की सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को मुश्किलों में डालने वाली भोपाल उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने पार्टी के कड़े तेवरों को देखते हुए मौन व्रत रखने का निर्णय लिया है| इस पर मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री जीतू पटवारी ने फिर हमला बोला है| इस बार उन्होंने एक कहावत के जरिये कहा है कि सौ चूहें खाकर “बिल्ली” “हज” को चली। हालाँकि उन्होंने किसी का नाम नहीं लिखा है लेकिन 21 प्रहर का “मौन” और “कठोर तपस्या का जिक्र किया है जिससे यह साफ़ है कि यह उन पर ही निशाना साधा है| इससे पहले भी साध्वी प्रज्ञा और उमा भारती की मुलाकात की फोटो पर कमेंट कर पटवारी घिर चुके हैं और उन्हें अपने पोस्ट को बदलना भी पड़ा था| 

साध्वी प्रज्ञा ने सोमवार को अपने अधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए लिखा हैं कि ‘चुनावी प्रक्रियाओं के उपरान्त अब समय है चिंतन मनन का, इस दौरान मेरे शब्दों से समस्त देशभक्तों को यदि ठेस पहुंची है तो मैं क्षमाप्रार्थी हूं. और सार्वजनिक जीवन की मर्यादा के अंतर्गत प्रायश्चित हेतु 21 प्रहर के मौन व कठोर तपस्यारत हो रही हूं।‘ साध्वी के इस ट्वीट के बाद उम्मीद यह लगाई जा रही है कि शायद उनकी इस चुप्पी के बाद पार्टी के रूख में उनके लिए थोड़ी नरमी आएगी| 

दरअसल प्रज्ञा सिंह ने हाल ही में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया था| उनके इस बया��� के बाद पूरे देश में बवाल हो गया था…. ना केवल विपक्ष बल्कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी उनके इस बयान की निंदा की थी| 

जीतू पटवारी ने साध्वी को बताया बिल्ली

साध्वी प्रज्ञा के 21 प्रहर के मौन व कठोर तपस्या के ट्वीट पर प्रदेश के खेल मंत्री जीतू पटवारी ने चुटकी लेते हुए ट्वीट किया है कि ’21 प्रहर का “मौन” और “कठोर तपस्या”! सौ चूहें खाकर “बिल्ली” “हज” को चली’…..इस ट्वीट के बाद विपक्ष  जीतू के ट्वीट की निंदा कर रहा है…..