लोकायुक्त के शिकंजे में फंसा संयुक्त संचालक, डेढ़ लाख की रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार

भोपाल/रीवा।
मध्यप्रदेश के रीवा जिले में लोकायुक्त ने बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है। टीम ने सांख्यिकी विभाग में पदस्थ ज्वाइंट डायरेक्टर आर के झारिया के यहां छापेमार कार्रवाई की है।टीम ने अधिकारी को डेढ लाख की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार किया है। आरोप है कि विधायक निधि से काम कराने वाले ठेकेदार को प्रशासनिक स्वीकृति दिलाने के नाम पर रिश्वत की मांग की थी। कार्रवाई के बाद आरोपित को जमानत दे दी गई है।

मिली जानकरी के अनुसार, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग के संभागीय संयुक्त संचालक आरके झारिया ने फरियादी ठेकेदार संतोष (34) पिता रामनिवास द्विवेदी निवासी रतहरा से विधायक निधि से स्वीकृत कार्य में प्रशासनिक अनुमति दिलवाने के एवज में 3 प्रतिशत राशि की मांग की थी।आखिरकार डेढ़ लाख में सौदा तय हो गया।इसके बाद वे पैसों के लिए दबाब बनाने लगे। ठेकेदार ने इसकी शिकायत लोकायुक्त से की। लोकायुक्त एसपी राजेन्द्र वर्मा ने प्रवेंद्र कुमार व निरीक्षक अनूप सिंह ठाकुर के नेतृत्व में 16 सदस्यीय टीम का गठन कर कार्रवाई के निर्देश दिए।सोमवार को योजना के अनुसार, ठेकेदार रिश्वत की रकम लेकर जैसे ही संयुक्त संचालक आरके झारिया को देने उनके कार्यालय में पहुंचा तभी लोकायुक्त टीम ने रिश्वत लेते हुए संयुक्त संचालक को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया।कार्रवाई के बाद आरोपित को जमानत दे दी गई है।