सिंधिया की ‘डिनर डिप्लोमेसी’ ने बढ़ाई सियासी सरगर्मी, नाथ-दिग्गी रहे नदारद

sindia

भोपाल। पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के सम्मान में गुरुवार रात को परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत के निवास पर डिनर पार्टी आयोजित की गई। इसमें सिंधिया के कई समर्थक, कांग्रेस विधायक ,कैबिनेट मंत्री के साथ साथ निर्दलीय और बसपा विधायक भी शामिल हुए।कांग्रेस अध्यक्ष, राज्यसभा चुनाव और आने वाले नगरीय निकाय चुनाव के पहले हुई इस पार्टी को शक्ति प्रदर्शन के रुप में देखा जा रहा है। पार्टी के राजनैतिक तौर पर कई सियासी मायने निकाले जा रहे है।वही सियासरत जमकर गर्माई हुई है।

वही सिंधिया ने भी डिनर के दौरान मीडिया के राज्यसभा जाने और प्रदेश अध्यक्ष को लेकर पूछे गए सवालों पर चुप्पी साधे रखी, हालांकि उन्होंने कहा कि मैं सबसे मिलने के लिए आया हूं, 3 महीने पहले भी आया था। सिंधिया दिन भर कई कार्यक्रमों में शामिल हुए लेकिन उनका मंत्रियों और कांग्रेस विधायकों के साथ डिनर करना सबसे अधिक चर्चा में रहा, क्योंकि इन दिनों सिंधिया के राज्यसभा जाने और पीसीसी चीफ बनने की चर्चाएं जोरों पर है।

कमलनाथ-दिग्गी रहे नदारद
इस डिनर डिप्लोमेसी में मुख्यमंत्री कमलनाथ, दिग्विजय सिंह, सुरेश पचौरी, आरिफ अकील, सज्जन सिंह वर्मा, जीतू पटवारी सहित अनेक बड़े नेता नदारद रहे।जिसकी चर्चा पूरे कार्यक्रम के दौरान होती रही। हालांकि मुख्यमंत्री कमलनाथ के आने को लेकर देर रात तक अटकलें चलती रहीं।लेकिन वे नही पहुंचे।इस पर गोविंद सिंह ने कहा निजी काम के कारण ये सभी नेता पार्टी में शामिल नही हो सके। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी में सभी एकजुट हैं।

पहले भी हो चुका है डिनर
कांग्रेस में ‘डिनर डिप्लोमेसी” का यह पहला अवसर नहीं था, इसके पहले स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट और विधायक आरिफ मसूद भी विधायकों को भोज देकर सुर्खियां बटोर चुके हैं। वही डिनर से पहले दिल्ली में कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से हुई सिंधिया की मुलाकात भी मीडिया की सुर्खियां बनी थी।

कभी झाबुआ बुलाओ औऱ कड़कनाथ खिलाओ
डिनर के दौरान कई तरह की हंसी ठिठोली भी हुई।इस मौके पर सिंधिया ने वरिष्ठ नेता कांतिलाल भूरिया से कहा आपको क्या कहूं? सांसद, विधायक अथवा मंत्री…। फिर उन्होंने शिकायती अंदाज में कहा कि आपने मुझे कभी झाबुआ नहीं बुलाया, अब जल्दी बुलाओ और कड़कनाथ सहित आदिवासियों के लोकप्रिय क्षेत्रीय आयटम भी खिलाओ।

इतना नही गिरना चाहिए
सांसद केपी यादव को लेकर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मैं श्रद्धांजलि देने अपने क्षेत्रवासियों के यहां हमेशा जाता हूं, यह उनकी सोच है। मैं आपके माध्यम से उनके पिता को श्रद्धांजलि व्यक्त करता हूं। वही कैबिनेट मंत्री प्रभारी मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया के द्वारा चमचे वाले बयान पर सिंधिया ने कहा कि राजनीति का स्तर इतना नीचे नहीं गिरना चाहिए।बता दे कि बीते दिनों सिसोदिया अशोकनगर पहुंचे थे तब उन्होंने कहा था कि मैं जीवन भर ज्योतिरादित्य सिंधिया का चमचा रहना पसंद करूंगा और यह मेरे लिए गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि सांसद केपी यादव उन्हें सिर्फ चमचा नहीं कढ़ाई भी कहते तब भी कोई दिक्कत नहीं थी।

भोज में शामिल होने पहुंचे ये मंत्री-विधायक
भोज में मंत्री डॉ. गोविंद सिंह, डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ, बाला बच्चन, सुखदेव पांसे, इमरती देवी, जयवर्धन सिंह, बृजेंद्र सिंह राठौर, लाखन सिंह, प्रदीप जायसवाल, कमलेश्वर पटेल, ओमकार सिंह मरकाम एवं मंत्री महेंद्र सिंह के अलावा बसपा विधायक रामबाई, निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस विधायकों ने शिरकत की। सिंधिया शाम सात बजे भोपाल पहुंचे थे। विमानतल पर मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, तुलसी सिलावट और प्रभुराम चौधरी के अलावा कांग्रेस प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी सहित अनेक पदाधिकारियों ने उनका स्वागत किया।

सिंधिया की 'डिनर डिप्लोमेसी' ने बढ़ाई सियासी सरगर्मी, नाथ-दिग्गी रहे नदारद सिंधिया की 'डिनर डिप्लोमेसी' ने बढ़ाई सियासी सरगर्मी, नाथ-दिग्गी रहे नदारद

 

सिंधिया की 'डिनर डिप्लोमेसी' ने बढ़ाई सियासी सरगर्मी, नाथ-दिग्गी रहे नदारद