किसानों को लेकर सरकार के इस फैसले को कक्काजी ने बताया गलत, की ये मांग

भोपाल।

राष्ट्रीय किसान मज़दूर महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवकुमार कक्काजी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है। पत्र के माध्यम से शिवकुमार कक्काजी ने फ़सलों का उपार्जन तत्काल शुरू करने की माँग की है।

दरअसल, कोरोना के बढ़ते कहर को लेकर प्रदेश की शिवराज सरकार ने गेहूं उपार्जन स्थगित करने का फैसला लिया है जिसे कक्काजी ने ग़लत बताया है।कक्का जी ने पत्र में लिखा है कि रबी फसल की आमदनी से ही किसान अपने कर्ज उतारता है, जरूरी खर्चों के इंतजाम के साथ खरीब फसलों की बुआई की तैयारी करता है। ऐसे में अगर इस वक्त रवि फसलों का उपार्जन नहीं किया गया तो आने वाले वक्त में प्रदेश में खाद्यान्न के संकट हो सकते हैं।

आगे कक्काजी ने मुख्यमंत्री बनने पर शिवराज सिंह चौहान को बधाई देते हुए कहा है कि देश में 21 दिन के लॉक डाउन के संकट को देखकर उन्होंने प्रधानमंत्री एवं केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र लिखा था। जिसके बाद कृषि मंत्री तोमर से इस संबंध में उनकी दूरभाष पर चर्चा हुई थी। जिसके बाद किसानों को राहत देते हुए केंद्र सरकार ने 27 मार्च को गांव में ही केंद्र बनाकर फसलों के उपार्जन की अनुमति दे दी थी किंतु राज्य की सरकार द्वारा 31 मार्च को आए एक आदेश में रबी फसलों के उपार्जन को अगले आदेश तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

राष्ट्रीय अध्यक्ष कक्का ने शिवराज से मांग करते हुए लिखा है वह सरकार के 21 दिन के लॉक डाउन का समर्थन करते हैं किंतु इस विषम परिस्थिति में किसानों को होने वाली समस्याओं से मुंह नहीं मोड़ा जा सकता। इसलिए अविलंब रबी फसलों के उपार्जन की प्रक्रिया शुरू की जाए।