‘शिव ‘राज’ मे कमलनाथ का पातालकोट बिकने का आरोप

Kamal-Nath-accused-of-selling-'patalkkot'-in-shivraj-sarkar

भोपाल।  मध्य प्रदेश में सत्ता बदलते ही पिछली सरकार में हुई धांधलियों की परतें खुलने लगी है, कुछ गड़बड़ियां जांच के दायरे में है तो कुछ की छानबीन सरकार कराने की तैयारी कर रही है| इस बीच एक और कारनामा सामने आया है| एक अख़बार में छपी रिपोर्ट के मुताबिक शिवराज सरकार में पर्यटकों के लिए ख़ास स्थलों में से एक छिंदवाड़ा जिले के पातालकोट का ऊपरी गांव बीजाढाना दिल्ली की एक कंपनी को 20  साल के लिए 11  लाख में लीज पर दे दिया गया है। यह वही पॉइंट है जहां से पातालकोट की गहराई को देखा जा सकता है| हालाँकि नई सरकार को इसकी भनक लग गई है, जल्द ही इस मामले में कोई बड़ा एक्शन लिया जा सकता है। बताते चले कि यह क्षेत्र मुख्यमंत्री कमलनाथ के संसदीय क्षेत्र छिंदवाड़ा में आता है।

दरअसल, पातालकोट के ऊपरी गांव बीजाढाना (रातेड़ पाइंट) की 7.216 हेक्टेयर भूमि २००९ में झमीलाल, इंदरशा, गोविंद, मंदर, गोरखशा, गोरखलाल और अन्य आदिवासियों के नाम थी। पहले तो सरकार ने पर्यटन विकास के लिए इसे अधिगृहीत कर उन्हें बेदखल कर दिया जबकी नियम के अनुसार इसका सीधा सौदा नही किया जा सकता। इसके बाद राज्य पर्यटन विकास निगम ने इस जमीन को विकसित कर सितंबर 2017 में इसे दिल्ली की फर्म यूरेका केम्पआउट्स प्राइवेट लिमिटेड को बीस साल के लिए 11  लाख में इसे लीज पर दे दिया। उससे एक लाख 10 हजार रुपए प्रति वर्ष लीज रेंट देने का करार किया गया। कंपनी को एडवेंचर्स क्षेत्र विकसित करने के लिए 18 माह का समय दिया है।जबकी पर्यटकों के लिए सड़क, बिजली, पानी, बाउंड्रीवॉल और प्लेटफार्म जैसी सुविधाएं पहले ही सरकार ने मुहैया करा करा रखी है।

पातालकोट अपनी सुंदरता के लिए मशहूर है। इस पाइंट से पातालकोट की गहराईयों को आसानी से देखा जा सकता है। पहले हजारों की तादाद में यहां पर्यटक आते थे और पहाड़ीनुमा सड़क से ऊपर चढ़ इसकी गहराईयों को देखते थे, लेकिन अब यहां पर्यटकों और आदिवासियों के लिए इसे बंद कर दिया गया है।यहां नो एंट्री का बोर्ड लगा दिया गया है।यह मुख्यमंत्री कमलनाथ का संसदीय क्षेत्र कहलाता है।इस मामले में पर्यटन मंत्री सुरेंद्र सिंह बघेल का कहना है कि वे इस संबंध में मुख्यमंत्री कमलनाथ से चर्चा करेंगें। तामिया पर्यटन क्षेत्र में आम लोगों का प्रवेश और ग्रामीणों का रास्ता कैसे रोका गया है, इस बारे में भी अफसरों से जवाब-तलब किया जाएगा।

यह है पातालकोट की खासियत

छिंदवाड़ा जिले के तामिया ब्लॉक में स्थित पातालकोट मानो धरती के गर्भ में समाया है। तकरीबन 89 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैली यह एक घाटी है, जो सदियों तक बाहरी दुनिया के लिए अनजान और अछूती बनी रही। पातालकोट में 12 गांव समाये हुए हैं ये गांव हैं- गैलडुब्बा, कारेआम, रातेड़, घटलिंगा-गुढ़ीछत्री, घाना कोड़िया, चिमटीपुर, जड़-मांदल, घर्राकछार, खमारपुर, शेरपंचगेल, सुखाभंड-हरमुहुभंजलाम और मालती-डोमिनी। बाहरी दुनिया का यहां के लोगों से संपर्क हुए ज्यादा समय नहीं हुआ है, इनमें से कई गांव ऐसे हैं, जहां आज भी पहुंचना बहुत मुश्किल है, जमीन से काफी नीचे होने और विशाल पहाड़ियों से घिरे होने के कारण इसके कई हिस्सों में सूरज की रौशनी भी देर से और कम पहुंचती है, मानसून में बादल पूरी घाटी को ढक लेते हैं और बादल यहां तैरते हुए नजर आते हैं। सतपुड़ा पर्वत श्रेणियों की गोद में बसा यह क्षेत्र भूमि से एक हज़ार से 1700 फुट तक गहराई में बसा हुआ है. इस क्षेत्र में 40 से ज़्यादा मार्ग लोगों की पहुँच से दुर्लभ हैं और वर्षा के मौसम में यह क्षेत्र दुनिया से कट जाता है। छिन्दवाड़ा से 62 किमी तथा तामिया विकास खंड से महज 23 किमी. की दूरी पर स्थित “पातालकोट” समुद्र सतह से 3250 फुट ऊँचाई पर तथा भूतल से 1000 से 1700 फुट गराई में “पातालकोट” स्थित है। इस पातालकोट के 12 गांवों में भारिया और गाेंड आदिवासी रहते हैं। यहां रह रहे लोग महादेव को अपना इष्टदेव मानते हैं।