भोपाल, डेस्क रिपोर्ट

उपचुनाव (By-election) को लेकर इन दिनों ग्वालियर (Gwalior) मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में राजनीति का केंद्र बना हुआ है। मध्यप्रदेश बीजेपी (BJP) के तमाम बड़े नेता पिछले तीन दिनों से ग्वालियर में डेरा डाले हुए है। बीजेपी यहां अपना सदस्यता अभियान (Sadasyata Abhiyaan) चला रही है और लगातार मंच से कांग्रेस पर हमलावर हो रही है। वहीं अब पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ (Former Chief Minister Kamal Nath) ने भी बीजेपी पलटवार करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) को मुख्यमंत्री (Chief Minister) न बनाकर उनके साथ बड़ा धोखा करने की बात कही है, जिस पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा  (Home Minister Narottam Mishra) ने बड़ा हमला बोला है।

कमलनाथ के इस ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कमलनाथ पहले सिंधिया को धोखा देकर खुद मुख्यमंत्री बन गए थे। इसलिए उन्हें लग रहा है भाजपा में भी ऐसा हुआ है। लेकिन हमने ऐसा नहीं किया कि सुंदर मोड़ा दिखकर बुजुर्ग आदमी से ब्याह कर दिया हो। उन्होंने कहा हकीकत में कांग्रेस अब टूटी और बिखरी है अपना दोष दूसरों के सिर डाल रही है। कांग्रेस के पास सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका वाड्रा, रेहान वाड्रा जैसे योग्य उमीदवार ​है। उन्होंने कहा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को यह समझना जरूरी है कि कांग्रेस वो विद्यालय है जहां कार्यकर्ता कितना ही पढ़ ले, 1st तो हेडमास्टर का बेटा ही आएगा।

दरअसल कमलनाथ ने र​विवार को ट्वीट कर लिखा था कि, “हमारी पार्टी में विधायक दल के नेता का चयन विधायकों की राय व पसंद के आधार पर सर्वसम्मति से किया गया था , उसके लिये निर्धारित प्रक्रिया का पालन भी किया गया था। हमारे यहाँ चुनाव पूर्व संगठन की मज़बूती के लिये योगदान और सरकार बनाने में भी योगदान किसका कितना रहा है , यह भी कार्यकर्ताओं से लेकर सभी को पता है , कौन यहाँ सिर्फ़ पर्यटन के लिये आता था , यह भी किसी से छुपा हुआ नहीं है। जो भाजपा नेतागण कह रहे है कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार ज्योतिरादित्य सिंधिया के कारण बनी , वो उनके ख़ुद के चुनाव का परिणाम ही एक बार फिर से देख ले। हमारी सरकार तो उनके कारण नहीं बनी लेकिन भाजपा की प्रदेश में सरकार तो उन्ही के कारण ही बनी है। ना वे जनता के विश्वास का सौदा करते, ना लाखों कांग्रेस कार्यकर्ताओं का विश्वास तोड़ते तो जनादेश नहीं होने के बाद भी भाजपा की प्रदेश में सरकार कैसे बनती? उसके बाद भी भाजपा ने उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाया , शिवराज ख़ुद बन बैठे , जबकि जनता तो भाजपा व शिवराज को चुनाव में नकार चुकी थी। भाजपा ने उनके साथ बड़ा धोखा किया है , भाजपा को उन्हें ही मुख्यमंत्री बनाना चाहिये।

कांग्रेस में अधिकांश आयातित है
दतिया में कांग्रेस की बैठक में हुए हंगामे को लेकर प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रर का बयान सामने आया है। उन्होनें कहा कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है पिछली बार तो कांग्रेस की बैठक में हाथापाई के वीडियो सामने आए थे। कांग्रेस जो भी है उसमें से अधिकांश आयातित है। दतिया में तो कांग्रेस के पास ऐसे नेता है जो अलग-अलग पा​र्टी से चार-चार बार चुनाव लड़ चुके है। वह आपस में तो लड़ेगे ही।