भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ राजधानी भोपाल से बाहर कैबिनेट करने जा रहे हैं। संभवत: यह कैबिनेट बैठक अगले हफ्ते उज्जैन में होगी। जिसमें महाकाल मंदिर के विस्तार से जुड़े प्रस्तावों पर चर्चा होगी, साथ ही नई कार्ययोजना पर मुहर लगेगी। नगरीय प्रशासन, धर्मस्य एवं अन्य विभागों ने इसका प्रस्ताव तैयार लिया है। हालांकि बैठक में संबंध में उज्जैन जिला प्रशासन को अधिकृत तौर पर कोई सूचना नहीं है। 

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश की कमान संभालने के बाद उज्जैन के विकास का मॉडल बनाने का ऐलान किया था। खासकर महाकाल मंदिर को लेकर भी बड़ा फैसला होना है। साथ ही कुंभ क्षेत्र में होने वाले विकास कार्य पर भी नए सिरे से निर्णय होना है। इसके लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ अगले हफ्ते पूरी कैबिनेट के साथ उज्जैन पहुंच रहे हैं। मुख्यमंत्री सचिवालय ने इसकी पूरी तैयारी कर ली है। साथ ही संबंधित विभागों के साथ भी बैठक हो चुकी है। हालांकि कैबिनेट बैठक की अभी तिथि तय नहीं है। संभवत: 23 या 25  नवंबर को उज्जैन कैबिनेट हो सकती है। सूत्रों ने बताया कि अगले कुछ दिनों के भीतर अफसरों का एक दल उज्जैन प्रवास पर जाएगा, जो कैबिनेट बैठक की तैयारियों की समीक्षा करेगा। 

अगले महीने झाबुआ में होगी कैबिनेट

इसी महीने के आखिरी में उज्जैन में कैबिनेट बैठक होगी। इसके बाद दिसंबर में झाबुआ में होगी। झाबुआ बैठक को लेकर भी मुख्यमंत्री सचिवालय में चर्चा हो चुकी है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास, अनुसूचित जनजाति विभाग एवं अन्य विभागों के साथ बैठक हो चुकी है। संबंधित विभागों को प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दे दिए हैं। सूत्रों ने बताया कि झाबुओ में दिसंबर के पहले या दूसरे हफ्ते में मुख्यमंत्री कमलनाथ कैबिनेट बैठक कर सकते हैं। ज्ञात हो कि झाबुआ उपचुनाव के दौरान मुख्यमंत्री ने कैबिनेट बैठक कराए जाने की घोषणा की थी।