रिपोर्ट कार्ड पेश कर जनता को बताएगी कमलनाथ सरकार- ’40 दिन’ में क्या-क्या किया

Kamal-Nath-Government-will-present-a-report-card-by-saying-'40-days'

भोपाल।

कांग्रेस के सत्ता में आते ही विपक्ष की भूमिका निभा रही बीजेपी कानून व्यवस्था और कमलनाथ सरकार द्वारा लिए गए फैसलों पर एक के बाद एक सवाल उठा रही है। कभी मीसाबंदियों की पेंशन पर सवाल खड़े किए जा रहे है तो कभी वंदे मातरम् को लेकर सड़कों पर प्रदर्शन  किया जा रहा है तो कभी भाजपा नेताओं की हत्याओं को लेकर। विपक्ष लोकसभा चुनाव से पहले सरकार का जमकर घेराव करने में जुटा हुआ है, ऐसे में कमलनाथ सरकार ने विपक्ष का मुंह बंद करने नई रणनिति बनाई है। सरकार ने फैसला किया है कि वह अपने 40  दिनों का हिसाब जनता को देगी।इस रिपोर्ट कार्ड में 40  दिन में सरकार द्वारा किए गए कार्यों, बदलावों और सौगातों का जिक्र किया जाएगा।

खबर है कि 40  दिन के इस रिपोर्ट कार्ड में किसान कर्ज माफी, कन्या विवाह योजना की राशि बढ़ाने, उद्योंगों में स्थानीय सत्तर फीसदी लोगों को रोजगार देने, युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए युवा स्वाभिमान यात्रा, सामाजिक सुरक्षा पेंशन की राशि को दोगुना करने और पुलिस वीकली ऑफ जैसे बड़े फैसले शामिल किए जाएंगें और जनता को बताया जाएगा कि जो काम भाजपा 15  सालों में नही कर पाई वह उन्होंने 40  दिन में करके दिखाया। साथ ही कांग्रेस द्वारा जनता को यह भी भरोसा दिलाया जाएगा कि सत्ता में आने से पहले जो भी वादे उन्होंने किए है वे जरुर पूरे किए जाएंगें। किसानों, युवाओं औऱ महिलाओं को एक नया मध्यप्रदेश सौंपा जाएगा। खजाना खाली होने के बावजूद विकास कार्यों में बाधा नही आएगी। बताया जा रहा है कि लोकसभा चुनाव से पहले जनता को साधने के लिए कांग्रेस द्वारा यह प्लान बनाया गया है साथ ही भाजपा द्वारा बार बार सवाल उठाने पर यह रिपोर्ट कार्ड उसका जवाब होगा। वहीं कहा जा रहा है कि भाजपा ने भी सरकार के 40 दिन को चुनावी मुद्दा बनाने का प्लान कर लिया है। विपक्ष के मुताबिक सरकार के फैसलों और हकीकत को भाजपा प्रदेश की जनता के सामने लाएगी।भाजपा द्वारा कर्जमाफी मे हुए घोटाले का खुलासा जनता के बीच किया जाएगा ।

गौरतलब है कि दो महिने बाद लोकसभा चुनाव होने वाले है।इस वक्त प्रदेश औऱ देश में कांग्रेस की लहर चल रही है, लोग बदलाव की बात कर रहे है, जिसका फायदा कांग्रेस लोकसभा चुनाव में भी उठाना चाहती है।इसीलिए कांग्रेस ने फैसला किया है कि वह अपना रिपोर्ट कार्ड जनता के बीच पेश कर अपने वोटबैंक मजबूत करेगी।हालांकि यह बात मुख्यमंत्री कमलनाथ पहले ही कह चुके है कि वे पांच सालों बाद एक एक दिन का हिसाब जनता को देंगें। वही उन्होंने पीएम मोदी को भी सलाह देते हुए कहा था कि वे भी अपने पांच साल का हिसाब जनता को दें।अब देखना है कि कांग्रेस का ये प्लान लोकसभा चुनाव में कितना कारगार साबित होता है।