कांग्रेस नेताओं पर लगे मुकदमे वापस लेगी कमलनाथ सरकार

Kamal-Nath-government-will-withdraw-lawsuit-against-Congress-workers-and-employees

भोपाल। मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने अपने मंत्रियों के विभागों का बंटवारा कर दिया है। कैबिनेट मंत्री पीसी शर्मा को विधि विभाग सौंपा गया है। पद संभालते ही पीसी शर्मा एक्शन मोड में आ गए है। विभाग की जिम्मेदारी संभालते ही उन्होंने आज बड़ा बयान दिया है। उन्होंने मध्यप्रदेश में कांग्रेस कार्यकर्ता और कर्मचारियों पर चल रहे मुकदमे वापस लेना की बात कही है।

दरअसल, शनिवार को पत्रकारों से चर्चा के दौरान नवनियुक्त विधि मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार मध्यप्रदेश में कांग्रेस कार्यकर्ता और कर्मचारियों के मुकदमे वापस लेगी । उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में बीजेपी शासन के दौरान कांग्रेस के नेताओं पर लगे सभी राजनैतिक केस वापस लिए जाएंगे। वही उन्होंने कहा कि प्रदेश में पत्रकार प्रोटेक्शन एक्ट को भी लागू किया जाएगा। वही रेप में फांसी के कानून पर शर्मा ने कहा कि महिला अपराधों पर लगाम लगाना प्राथमिकता होगी। महिलाओं और बच्चियों के मामलों में फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट के माध्यम से काम किया जाएगा। प्रदेश में जल्लादों की भर्ती पर जो जरूरी कदम होंगे उठाए जाएंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि कई कानूनों के संबंध में नई सरकार के रुख के बारे में चर्चा की। 

बताते चले कि कांग्रेस नेताओं को लंबे समय से शिकायत है कि राजनीतिक धरने प्रदर्शन के दौरान मप्र में पुलिस ने उन पर मुकदमे दर्ज किये और कई बार ऐसी धाराओं का उपयोग भी किया गया जिससे जमानत मिलना भी आसान नहीं होता। अब पीसी शर्मा के बयान के बाद कांग्रेस कार्यकर्ता उत्साहित हैं। माना जा रहा है कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर दर्ज मुकदमों की संख्या बहुत बढ़ी है इन्हें समाप्त करने की प्रक्रिया शुरू होगी तब भी इससे वक्त लगेगा। यद्यपि कानून मंत्री शर्मा ने कहा है कि एक महीने के भीतर इस मामले में यथोचित निर्णय लिया जाएगा।