इस कदम से जनता के बीच लोकप्रिय हुए कमलनाथ

Kamal-Nath-This-step-made-popular-among-the-people--

 भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 6 महीने का कार्यकाल पूरा कर लिया है। इस दौरान सरकार ने कई लोकप्रिय फैसले किए हैं, लेकिन किसी भी फैसले ने उन्हें व्यक्तिगत तौर पर उतनी लोकप्रियता नहीं दिलाई, जितनी अंगुली के ऑपरेशन से मिल गई है। बेशक राजधानी के हमीदिया अस्पताल में उनकी अंगुली का ऑपरेशन दिल्ली के डॉक्टरों ने किया, लेकिन सरकारी अस्पताल में ऑपरेशन कराने से आम जनता में उनकी लोकप्रियता बढ़ी है। वहीं इसे एक बड़ी पहल के तौर पर देखा जा रहा है, 

मुख्यमंत्री कमलनाथ अंगुुली का ऑपरेशन कराने के लिए अस्पताल में 13 घंटे तक भर्ती रहे। इससे पहले वे शुक्रवार शाम को 1 घंटे के लिए जांच कराने गए थे। इन 14 घंटों के लिए भीतर उनकी जनमानव में जमकर चर्चा हो रही है। क्योंकि अभी तक कोई भी नेता मुख्यमंत्री रहते प्रदेश के किसी भी सरकारी अस्पताल में ऑपरेशन कराने नहीं पहुंचा। आज के दौर में छोटे से छोटा जनप्रतिनिधि सामान्य बीपी चेक कराने के लिए भी निजी अस्पताल में जाता है, ऐसे समय में मुख्यमंत्री ने सरकारी व्यवस्था पर भरोसा देकर आम जन में यह संदेश देने की कोशिश की है कि यहां बेहतर इलाज मिलता है। 

दब गए मुद्दे

कमलनाथ के सरकारी अस्पताल में भर्ती होने के बाद नई चर्चाएं भी शुरू हुई| विपक्ष ने भी उन्हें घेरने की कोशिश की है| वहीं राजनीतिक जानकारों के अनुसार हमीदिया में अंगुली का ऑपरेशन कराने के पीछे कमलनाथ की अपनी रणनीति हो सकती है। क्योंकि दो दिन पहले तक कैबिनेट विवाद, बिजली संकट, थाने में हत्या, दुष्कर्म, मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर तरह-तरह की अटकलों में मुख्यमंत्री उलझे हुए थे। लेकिन 13 घंटे की ब्रॉडिंग के बाद सारे मुद्दे दब गए हैं। लोगों के बीच मुख्यमंत्री और उनकी छवि की चर्चा हो रही है। हालांकि बीजेपी सवाल जरूर उठा रही है, लेकिन इस मामले में कमलनाथ बाजी मरते दिख रहे हैं|


जनसंपर्क से आगे कांग्रेस

मुख्यमंत्री की ब्रॉडिंग का काम जनसंपर्क विभाग का है, लेकिन प्रदेश कांग्रेस कमेटी इसमें आगे निकल गई। कमलनाथ के जांच के लिए अस्पताल जाने से लेकर ऑपरेशन के बाद छुट्टी होने तक प्रदेश कांग्रेस सोशल मीडिया पर ब्रॉडिंग में जुटी रही। जबकि ��नसंपर्क विभाग इसमें काफी पीछे रहा।