लक्ष्मण सिंह के बयान से घिरी सरकार, पूर्व मंत्री ने साधा निशाना

भोपाल| कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने अपनी ही सरकार पर सवाल उठाकर सियासत में हलचल बढ़ा दी है| उन्होंने सवाल उठाये हैं कि अब तक सिर्फ सरकार बचाने का काम चल रहा है, जमीन पर सरकार दिख ही नहीं रही है| वहीं उन्होंने सीएम कमलनाथ को लेकर कहा कि वे एक मजबूत मुख्यमंत्री बनकर दिखाएं, मजबूर नहीं| लक्ष्मण सिंह के इस बयान के बाद सियासत गरमा गई है, कांग्रेस खेमे में जहां हलचल है तो वहीं विपक्ष के आरोपों को बल मिला है| बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने लक्ष्मण सिंह के बयान का समर्थन करते हुए सरकार को घेरा है| 

पूर्व मंत्री ने कहा अगर मंत्रिमंडल का पैमाना योग्यता की जगह मजबूरी होगी तो सरकार जमीन पर कहाँ दिखेगी|  नरोत्तम मिश्रा ने कहा लक्ष्मण सिंह जैसे योग्य व्यक्ति मंत्रिमंडल से बाहर होंगे, बिसाहूलाल सिंह, केपी सिंह और एन्दल सिंह जैसे अनुभवी लोग बाहर होंगे तो ऐसी ही स्थिति बनेगी| मैंने पहले ही कहा था कि सरकार मजबूरी में चल रही है, इसी बात को लक्ष्मण सिंह ने भी बोलकर साबित कर दिया है कि सिर्फ सरकार बचाने का काम चल रहा है|  उन्होंने कहा आज प्रदेश की हालत बहुत खराब है लूट पाट की स्तिथि बनी हुई है| एक तरफ मुख्यमंत्री कहते हैं अवैध उत्खनन पर सख्त रोक लगेगी, दूसरी तरफ रोकने वाले का तबादला हो जाता है| वहीं उन्होंने नेताओं और अधिकारियों की चरणवंदना पर कहा शासन और प्रशासन दोनों ही इस समय शरणागत हैं, चरणम शरणम गच्छामि, ऐसी स्तिथि देखते हैं तो लगता है लोकतंत्र भी शर्मा रहा होगा, अपने पद पर बने रहने की यह आहर्ता तय की है सरकार ने कि कोई शरण में नहीं आएंगे तो पद से हटा दिए जाएंगे| यह हालत चिंतनीय भी है और निंदनीय भी है| 


यह कहा था लक्ष्मण सिंह ने 

चाचोड़ा विधानसभा सीट से कांग्रेस के विधायक लक्ष्मण सिंह ने गुना में मीडिया से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ पर तंज कसा| उन्होंने कहा कमलनाथ मजबूत मुख्यमंत्री बनकर दिखाएं, मजबूर मुख्यमंत्री ना बनें| उन्होंने कहा अब तक सिर्फ सरकार बचाने के प्रयास किये जा रहे थे, अब सरकार चलाने के प्रयास होना चाहिए, क्यूंकि जमीनी स्तर पर सरकार दिख नहीं रही है, काम नहीं हो रहे हैं, स्कूलों में शिक्षक नहीं है, स्वास्थ सेवा बदहाल है, मनरेगा के काम नहीं दिख रहे, कालेजों में जनभागीदारी समिति नहीं बनी है, इसीलिए मेरा मुख्यमंत्री को सुझाव है सरकार चलाने में ज्यादा ध्यान दें, बचाने में कम ध्यान दें| उन्होंने कहा सरकार है जब तक है, सरकार रहे या न रहे लेकिन आप एक मजबूत मुख्यमंत्री बनकर दिखाइए|