पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और नेता-प्रतिपक्ष का CM शिवराज को पत्र, जांच समिति गठित करने की मांग

Bhopal Kamal Nath and Dr. Govind Singh Wrote a letter to CM Shivraj : प्रदेश में राजनीतिक  द्वेषवश प्रशासनिक स्तर पर राजनीतिक दलों से जुड़े व्यक्तियों पर झूठे एवं गंभीर अपराधिक प्रकरण दायर होने का आरोप लगाते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और मप्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर विधानसभा अध्यक्ष की अध्यक्षता में जांच समिति गठित करने की मांग की है।

यह लिखा पत्र में 
मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में नेताद्वय ने कहा है कि वर्तमान में प्रदेश के कई जिलों में राजनीतिक कार्यकर्ताओं या उनके परिवार से जुड़े हुए व्यक्तियों के साथ द्वेषपूर्ण रूप से गंभीर अपराधिक प्रकरण दर्ज हो रहे हैं विषेषरूप से दतिया, टीकमगढ़ और सागर जिलों में निवासरत विशेष रूप से अनसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति वर्ग के गरीब व्यक्तियों के विरुद्ध प्रकरण दर्ज हो रहे हैं। कमलनाथ एवं डॉ गोविंद सिंह ने मुख्यमंत्री से कहा कि आप स्वयं जानते हैं कि हम सबके राजनीतिक जीवन में ऐसी द्वेषपूर्ण बदले की भावना से कभी भी विपक्षी दलों से जुड़े नेताओं एवं कार्यकर्ताओं तथा उनके परिजनों के विरूद्ध ऐसे झूठे गंभीर अपराधिक प्रकरण दर्ज नहीं हुए हैं, जिससे कि राजनीतिक दलों से जुड़े व्यक्तियों को प्रताड़ित किया जाये।

दौरे के बाद मिली जानकारी 
नेताद्वय ने पत्र में लिखा है कि पूरे प्रदेश के कई जिलों के कार्यकर्ताओं से प्राप्त शिकायतों के आधार पर अधिवक्ताओं की एक समिति गठित की गई एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजय सिंह, सांसद राज्य सभा द्वारा उक्त क्षेत्रों का दौरा कर पीड़ित कार्यकर्ताओं से भेंट करने के उपरांत उपरोक्त आरोपों की प्रथमदृष्टया पुष्टि हुई हैं।

की मांग कि जाए कमेटी गठित

मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी की ओर से आग्रह है कि झूठे अपराधिक प्रकरणों की निष्पक्ष जांच कराने के उद्देश्य से विधानसभा अध्यक्ष की अध्यक्षता में जांच समिति गठित कर भाजपा, कांग्रेस एवं अन्य दलों से जुड़े माननीय विधायकों को सदस्य मनोनीत कर जांच कराई जाएं तथा उक्त समिति का कार्यकाल आगामी 4 माह के लिए निर्धारित किया जाए तथा राजनीतिक द्वेष की भावना से दर्ज समस्त गंभीर राजनीतिक अपराधिक प्रकरणों की जांच कर जांच रिपोर्ट सार्वजनिक की जाए जिससे कि दोषी व्यक्तियों जिनमें प्रशासनिक अधिकारी भी शामिल है के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही तय किया जाना सुनिश्चित किया जा सके। नेताद्वय ने कहा कि मुख्यमंत्री जी, पूर्ण विश्वास है कि आप बिना किसी रागद्वेष के कांग्रेस एवं वर्तमान भाजपा सरकार के कार्यकाल में दर्ज हुए सभी प्रकरणों की जांच करा कर प्रदेश की जनता के साथ न्याय करेंगे।