सरकार के रडार पर आए भाजपा समर्थित अधिकारी, इन पर गिर सकती है गाज

list-submitted-to-government-of-BJP-influenced-officers-

भोपाल। मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार आने के बाद बिजली संकट पनप रहा है। लोकसभा चुनाव से पहले इस संकट को बीजेपी नेता जमकर भुना रहे हैं। बिजली कटौती चुनाव में बड़ा मुद्दा बनकर उबर रहा है जिससे कांग्रेस को नुकसान होने की संभावना है। ऐसे में सरकार ने उन अधिकारियोंं के खिलाफ कार्रवाई करना शुरू कर दी है जिन्होंने बिना अनुमति के बिजली सप्लाई बंद की। हाल ही में कंपनी प्रबंधन ने 449 उन कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया था जिन पर भाजपा का समर्थक होने के नाते बिजली सप्लाई कम देने का आरोप लगाया गया है। यह मामला अभी थमा नहीं है कि फिर से 21 जिलों के भाजपा समर्थक अधिकारियों-कर्मचारियों की सूची फिर से सरकार के पास पहुंच गई है। इस सूची में लगभग पांच सैकड़ा अधिकारियों-कर्मचारियों की जानकारी शासन को भेजी गई है। जिसमें बखूबी बताया गया है कि किस अधिकारी के किस भाजपा नेता के साथ संबंध हैं तथा वह कितने दिनों से एक ही जिले में पदस्थ है।

लंबे समय से मौजूद अधिकारी

शासन को भेजी इस सूची में जहां भजपा समर्थक अधिकारियों-कर्मचारियों के नाम है वहीं उनकी एक ही जगह लंबे समय तक रही पदस्थी को लेकर भी जानकारी दी गई है। इस सूची में अधिकांश अधिकारी-कर्मचारी वर्षों से लंबे समय से एक ही जगह पदस्थ हैं।

जिले एवं उनके अधिकारी

ग्वालियर

महाप्रबंधक अरुण शर्मा एवं महाप्रबंधक विनोद कटारे। महाप्रबंधक अरुण शर्मा महलगांव स्थित एरिया स्टोर में पदस्थ हैं वहीं विनोद कटारे संचालन संधारण वृत्त ग्वालियर में पदस्थ हैं। इन दोनों अधिकारियों पर तत्कालीन मंत्री के समर्थक होने का आरोप लगाया जा रहा है।

उज्जैन

सहायक यंत्री राकेश खण्डेलवाल। यह नई सडक़ बिजली ग्रिड में पदस्थ हैं। इन पर आरोप है कि यह भाजपा विधायक पारस जैन से जुडक़र लगातार चार वर्षों से पदस्थ हैं। इनके द्वारा मुस्लिम क्षेत्रों में मेंटीनेंस के नाम पर बिजली कटौती की जा रही है। दूसरे राकेश खाकरे, तहसील भट्टिया में पदस्थ हैं तथा भाजपा समर्थित हैं। इन्हें लापरवाही बरतने के कारण निलंबित किया जा चुका है।

नीमच

सुरेश चन्द्र वर्मा(महाप्रबंधक) विगत 3-4 वर्षों से नीमच में पदस्थ हैं। इनके क्षेत्रान्र्तगत आने वाले फीडर के तार खराब हो चुके हैं लेकिन कई बार मेन्टीनेंस के फर्जी बिल लगाकर शासन की नजर में मेन्टीनेंस किया गया, मौके पर किसी प्रकार के तार नहीं बदले गए। इसी प्रकार वेदप्रकाश शर्मा(ग्रिड ऑपरेटर रामपुरा) भाजपा समर्थक हैं एवं विगत 15 वर्षों से रामपुरा में पदस्थ हैं। रमेश चन्द्र बारबर(डिवीजन इंजीनियर जावद) यह भाजपा विधायक ओमप्रकाश सखलेचा के सम्पर्क में हैं।