लोकसभा में इन इच्छाओं को पूरा नहीं कर पाईं ताई, राजनीति के बारे में कही ये बात

loksabha-speaker-sumitra-mahajan-wish-remain-unfull-filled-

भोपाल।  लोकसभा स्पीकर और इंदौर सीट से वर्तमान सांसद सुमित्रा महाजन को इस बार उम्मीदवार नहीं बनाया गया है। उनकी जगह बीजेपी ने शंकर लालवानी को टिकट दिया है। सुमित्रा महाजन (ताई) लगातार इस सीट पर आठ बार से सांसद रहीं है। उनका टिकट कटने के बाद इस बात की चर्चा भी तेज हो गई थी क्या ताई अब राजनीति से संन्यास लेंगी। यही नहीं, उनके साथ विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, उमा भारती भी चुनाव नहीं लड़ रही हैं। ऐसे में कई सवाल उठ रहे थे। जिनपर ताई ने विराम लगा दिया है। उन्होंने मीडिया में दिए अपने एक इंट्ररव्यू में कहा है कि वह, उमा और सुषमा राजनीति में सक्रिय रहेंगी और संगठन को मजबूत करने का काम करेंगी।

उन्होंने कहा कि, पार्टी में लगातार होने वाली संगठन की ट्रेनिंग का ही असर होता है कि काम करते करते नेतृत्व तैयार हो जाता है। कोई बड़ा नेता अगर किसी कारण अपनी जिम्मेदारी निभा नहीं पाता तो उसके बदले दूसरा व्यक्ति वह काम करता है। उन्होंंने संगठन की ट्रेनिंग को ध्यान में रखते हुए हाल ही में बजट पेश करने वाले पीयूषय गोयल का उदाहरण दिया। बीमार होने के कारण देश के वित्त मंत्री अरूण जेटली बजट पेश नहीं कर पाए थे, लेकिन उनकी जगह पीयूष गोयल ने इस काम को बखूबी निभाया। उन्होंंने कहा कि अब पार्टी में दूसरी पंक्ति के नेता अहम जिम्मेदारी निभाने के लिए तैयार हैं उन्हें मेरे अलावा और भी नेताओं का मार्गदर्शन मिल रहा है। 

उन्होंने कहा कि वह नया लोकसभा भवन बनाना चाहती थीं। लेकिन ऐसा फिलहाल हो नहीं पाया। उन्होंने कहा कि वह नए भवन कि कल्पना कर रही थी जिसमें सांसदों की टेबल पर एक कंप्यूटर भी लगा हो। वर्तमान संसद भवन में इतनी जगह नहीं है कि वहां कंप्यूटर लगाए जा सकें। इसके अलावा वाईफाई और इंटरनेट की सुविधा दी, लेकिन मेरी इच्छा एक बड़ा ट्रेनिंग सेंटर बनाने की भी थी। इंदौर से अंतरराष्ट्रीय उड़ान मेरे कार्यकाल में शुरू होते देखना चाहती थी। इसके लिए सारे प्रक्रिया हो चुकी है।