लूटपाट कर युवक को पेड़ से बांधकर भागे बदमाश, पुलिस मामले को दबाने में जुटी

-Looted-the-young-man-tied-to-a-tree-and-ran-away

भोपाल। बजरिया इलाके में एलजी शोरूम के कर्मचारी के साथ में हुई लूट के मामले में पुलिस लीपापोती कर रही है। बदमाशों ने फरियादी के सिर में डंडा मारने के बाद में पांव में चाकू मारा था। इसके बाद में उसे कैसरिया रंग के गमछे से पेड़ पर बांध दिया था। आरोपी उसका एक बैग जिसमें दस्तावेज और कुछ नकदी थी, सहित एक मोबाइल फोन लेकर भाग गए थे। इस बात की जानकारी फरियादी ने पुलिस को दी थी। हालांकि पुलिस ने मामले में साधारण मारपीट की धाराओं में प्रकरण दर्ज किया है। 

जानकारी के अनुसार राजेंद्र अडलक पिता माधवराव अडलक (29) निवासी करारिया फार्म भेल स्थित विजय मार्केट में दीपक इंटरप्राइजेज एलजी के शोरूम में सीनीयर एग्जिक्युटिव के पद पर पदस्थ है। उसने बताया कि कोच फैक्ट्री स्थित सुनसान इलाके में एक पेड़ के पीछे छिपे हुए थे। आरोपियों ने सिर में डंडा मारकर उसे गिरा दिया था। बाद में बदमाशों ने उसे सिर में एक और डंडा मारा था, एक युवक ने उसके पांव में चाकू मार दिया। दो आरोपी आस पास रखवाली के लिए लिए खड़े हो गए थे। राजेंद्र ने बताया कि आरोपियों ने उसकी तलाशी ली। उसकी जेब में रखा पर्स निकाल लिया। जिसमें तीन हजार की नकदी रखी थी। एक बैग छीन लिया, जिसमें अंकसूची सहित अन्य कीमती दस्तावेज रखे थे। फिर बदमाशों ने उसका मोबाइल छीन लिया। मोबाइल कवर के अंदर दो एटीएम कार्ड भी रखे थे।

फरियादी के गमछे से ही बांध दिया

राजेंद्र ने बताया कि उसे उसी के गमछे से बांधा गया था। आरोपियों ने करीब 15 मिनट तक उसके साथ में लात, घूसें और बेल्टों से उसकी धुनाई की। बाद में उसके गले को भी तेजी से बांध दिया गया। इसके बाद में उसके एक बदमाश बोला की इसके गले को काट दो। तब फरियादी ने आरोपियों ने रहम करने को कहा। इसके बाद में एक बदमाश ने दोबारा उसके पांव में चाकू मारा और एटीएम का सही पासवर्ड बताने को कहा। राजेंद्र ने एटीएम का पासवर्ड बता दिया। इसके बाद में आरोपी चाकू से उसका गला  काटकर फैंकने की बात करने लगे। राजेंद्र ने बताया कि उसका गमछा तब तक कुछ ढीला हो चुका था। किसी तरह से फरियादी खुलकर वहां से भाग निकला।

– हमीदिया में भी नहीं मिला इलाज

राजेंद्र ने बताया कि वहां से भागने के बाद में घर पहुंचा, बड़े भाई को लेकर थाने गया। जहां आधे घंटे तक उसकी सुनवाई नहीं की गई। फिर मेडिकल फार्म भरकर उसे रवाना किया गया। हमीदिया में भी तीन घंटे तक उसे इलाज नहीं मिला। बाद में इलाज किया, पर टांके सही नहीं लगाए गए। फिर थाने आकर उसने एफआईआर दर्ज कराई। तब पुलिस घटना स्थल पर पहुंची और उसकी बाइक बरामद कर ली गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here