शिक्षकों पर लटकी तलवार, अब देनी होगी यह परीक्षा, फेल हुए तो गिरेगी गाज!

10962
madhya-pradesh-bhopal-mp-government-will-conduct-exam-for-teachers

भोपाल। शिक्षा विभाग की लाख कोशिशों के बावजूद बोर्ड परिक्षाओं के रिजल्ट में कोई खास सुधार नही हो रहा है। इसको लेकर विभाग ने चिंता जाहिर की है और बच्चों के साथ साथ अब शिक्षकों की ही परीक्षा लेने का फैसला लिया है। ये परीक्षा उन स्कूलों के टीचर्स की हो���ी जिनके स्कूल का बोर्ड का रिजल्ट 30 फीसदी से कम आया है। यह परीक्षा 12 जून को आयोजित की जाएगी।  इस परीक्षा के आधार पर विभाग शिक्षकों की योग्यता आंकेगा और परीक्षा में फेल होने वाले शिक्षकों को बाहर भी किया जा सकता है, या फिर शैक्षणिक कार्य छो़ड़कर दूसरे काम में लगाया जा सकता है। विभाग को पूरी उम्मीद है कि ऐसा प्रयोग करके शिक्षा के स्तर में सुधार किया जा सकेगा।

दरअसल, इस बार सिंगरौली, रीवा, ग्वालियर, सीधी, मुरैना, शिवपुरी, भिंड के स्कूलों का रिजल्ट अन्य जिलों की तुलना में खराब रहा। जिसके चलते स्कूल शिक्षा विभाग ने सख्त रवैया अपनाते हुए इस बार शिक्षकों की ही परीक्षा लेने का फैसला लिया, ताकी पता लगाया जा सके कि आखिर क्यों रिजल्ट में सुधार नही हो पा रहा है। यह परीक्षा आगामी 12  जून को होगी , इसमें विद्यार्थियों काे दिए गए पिछले चार साल के प्रश्न-पत्राें में से काेई एक पेपर इन्हें हल करना हाेगा। मूल्यांकन के बाद इन्हें ए, बी, सी, डी ग्रेड दिए जाएंगे। ये परीक्षा उन स्कूलों के टीचर्स की होगी जिनके स्कूल का बोर्ड का रिजल्ट 30 फीसदी से कम हो। प्रदेश के ऐसे 700 स्कूलों के करीब 3.5 हजार शिक्षकों काे विषयवार परीक्षा के इस दाैर से गुजरना हाेगा। 

मध्य प्रदेश में यह पहला मौका होगा जब विभाग स्कूल में शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए सरकारी स्कूलों के शिक्षकों की परीक्षा ले रहा होगा।इस परीक्षा के माध्यम से शिक्षकों की योग्यता को जांचा जाएगा कि वे बच्चों को पढ़ाने के लायक है भी या नही। अगर शिक्षक फेल होते है तो उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा या फिर कुछ और भी कदम उठाए जा सकते है।अब परीक्षा में पास फेल होने के बाद ही इन स्कूलों के शिक्षकों की भूमिका तय की जाएगी।इसी के साथ बोर्ड का यह प्रयोग सफल रहा तो निश्चित रुप से इससे शिक्षकों की गुणवत्ता भी सामने आएगी और बच्चों को भी बेहतर मार्गदर्शन मिल सकेगा। 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here