MadhyPradesh Politics: दिग्विजय की ज्योतिरादित्य सिंधिया को खुली चुनौती

भोपाल।
उपचुनाव (by election) से पहले एमपी (mp) में सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर तेजी से चल रहा है।खास करके विपक्ष द्वारा राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Rajya Sabha MP Jyotiraditya Scindia) और शिवराज सरकार (Shivraj government) में उनके समर्थक मंत्रियों को लेकर टारगेट किया जा रहा है।चाहे मुद्दा कोई भी हो सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक कांग्रेस सिंधिया को निशाना बना रही है।अब पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह (Former Chief Minister and Rajya Sabha MP Digvijay Singh) ने सिंधिया के कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) पर भ्रष्टाचार के आरोपों लगाने वाले बयान पर पलटवार किया है और चुनौती तक दे डाली है।दिग्विजय की इस चुनौती ने सियासी हलचल तेज कर दी है।

दरअसल, दिग्विजय ने ट्वीटर के माध्यम से सिंधिया को पिछली सरकार के भ्रष्टाचार उजागर करने की चुनौती दी है। दिग्विजय ने ट्वीट कर लिखा है कि सिंधिया जी-“पिछली सरकार में भ्रष्टाचार हुआ”, उन्हें खुली चुनौती है,नीचे विभागों का एक भ्रष्टाचार बतायें,वर्ना जनता से क्षमा माँगे।दिग्विजय ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, महिला एवं बाल विकास, परिवहन, श्रम, स्कूली शिक्षाराजस्व, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति में हुए एक भ्रष्टाचार का ब्यौरा मांगा है।खास बात ये है कि दिग्विजय सिंह ने उन विभागों के भ्रष्टाचार की बात की है जो पिछली कमलनाथ सरकार में सिंधिया समर्थक मंत्रियों के पास थे।बता दे कि कमलनाथ सरकार में गोविंद सिंह के पास परिवहन, प्रभुराम चौधरी के पास शिक्षा, इमरती देवी के पास महिला-बाल विकास, प्रदुम्नन सिंह के पास खाद्य आपूर्ति जैसे विभाग थे।अब देखना है कि सिंंधिया या फिर उनके समर्थकों मंत्रियों की तरफ से इसका क्या जवाब आता है। फिलहाल सिंधिया या किसी भी भाजपा नेता द्वारा इस पर कोई प्रतिक्रिया सामने नही आई है।

यह पहला मौका नही है जब दिग्विजय ने सिंधिया पर हमला बोला हो। इसके पहले भी दिग्विजय कई बार सिंधिया को आड़े हाथों ले चुके है।हाल ही में दिग्विजय ने ट्वीट कर लिखा था कि महाराज भाजपा के कृषि मंत्री कमल पटेल कहते है “किसानों का क़र्ज़ माफ करना पाप है”। क्या आप उनके बयान से सहमत हैं? यदि शिवराज चौहान कॉंग्रेस सरकार ने किसानों का क़र्ज़ माफ़ करने की जो प्रक्रिया शुरू की थी वह उसे पूरा नहीं करते हैं तो क्या आप मप्र सरकार के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतरेंगे?

बता दे कि बीते दिनों भाजपा की वर्चुअल रैली में सिंधिया ने आरोप लगाते हुए कहा था कि 15 महीने की कमल नाथ सरकार अन्याय, अत्याचार और भ्रष्टाचार की सरकार थी। कमलनाथ सरकार ने वल्लभ भवन को भ्रष्टाचार का अड्डा बना दिया था। जब यह पंद्रह महीने सत्ता में थे तब बल्लभ भवन से भ्रष्टाचार की सरकार चल रही थी। वहां सांसद–विधायक नहीं जा पाते थे और सौदागरों, ठेकेदारों की पहुंच अंदर तक थी।

 

(भोपाल से पूजा खोदाणी की रिपोर्ट)