मध्यप्रदेश : मंत्री बिसाहूलाल के बयान पर बवाल, कांग्रेस ने की मंत्री पद से हटाने की मांग

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश सरकार के मंत्री बिसाहूलाल के आपत्तिजनक बयान पर कांग्रेस ने उन्हे मंत्री पद से हटाने की मांग की है। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने एक बयान में कहा है कि प्रदेश के मंत्री बिसाहूलाल सिंह लगातार विवादास्पद व उल जलूल बयान देने के आदी हो गए हैं। ऐसा लग रहा है खुद भाजपा ने अपने नेताओं व मंत्रियों को विभिन्न समाजों के अपमान करने की जवाबदारी दे रखी है।

यह भी पढ़ें…. MP Weather: मौसम में बदलाव जारी, 10 जिलों में गरज चमक के साथ बारिश के आसार, जानें क्या कहता है विभाग का पूर्वानुमान

गौरतलब है कि बिसाहूलाल ने रतलाम के पिपलौदा में मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान कार्यक्रम में अपने नाम के पीछे लगे सिंह के बारे में बताते हुए कहा कि रीवा संभाग में जहां से नर्मदा नदी निकलती है, वहां एक जमाने में बहुत शेर हुआ करते थे। रीवा राज के राजा शेर का शिकार करते थे, शिकार तो कर नहीं पाते थे। शराब पीकर पड़े करते थे। हम लोगों के समाज के लोगों को जंगल में हाका करवाते थे और मंच बनवा के बंदूक थमा देते थे। जब हम लोग शेर मार देते थे तो राजा बोलते थे कि मैंने शेर मारा है। हमारे लोगों से शिकार कराने के कारण हमारे नाम के पीछे सिंह लिखा हुआ है। कांग्रेस का कहना है कि मंत्री बिसाहूलाल सिंह का यह पहला बयान नहीं है। यदि बात करें तो इसके पूर्व 19 अक्टूबर 2020 को उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी कांग्रेस उम्मीदवार विश्वनाथ प्रताप सिंह की पत्नी राजवती सिंह को लेकर एक बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी की थी, जिस पर उनके खिलाफ उनकी शिकायत पर प्रकरण भी दर्ज हुआ था।
मंत्री जी यहीं नहीं रुके ,उसके बाद उन्होंने 25 नवंबर 2021 को भी एक विवादास्पद बयान देते हुए टिप्पणी की थी कि “ठाकुर-ठकार लोग और सवर्ण समाज के लोग अपनी महिलाओं को कोठरी में बंद कर कर रखते हैं, उन्हें घर से बाहर खींच कर लाओ और उनसे काम करवाओ।  उनके इस बयान की भी काफी आलोचना हुई थी और इस बयान के बाद मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने माफी भी मांगी थी। मंत्री यही नहीं रुक रहे हैं, अब 16 अक्टूबर 2022 का उनका एक बयान फिर सामने आया है। जिसमें वह राजा-महाराजाओं को दारु पीने वाला कहकर बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी कर रहे हैं। मंत्री बिसाहूलाल सिंह इस तरह का बयान देने के आदी हो गए हैं और ऐसा लग रहा है कि भाजपा ने उन्हें इस तरह के बयान देने की खुली छूट दे रखी है ,खुला संरक्षण दे रखा है। यदि उनके पूर्व के बयानों के आधार पर ही उन पर कार्रवाई हो जाती तो शायद वे इस तरह का बयान नहीं देते लेकिन भाजपा के संरक्षण के कारण वे लगातार महिलाओं का व क्षत्रिय समाज का अपमान कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें… मनचले से परेशान एक बेटी ने छोड़ दी पढ़ाई, शिकायत लेकर भटक रही मां, जिम्मेदार मौन 

सलूजा ने कहा है कि उनका वर्तमान बयान भी बेहद आपत्तिजनक है और उनके अभी तक के सारे आपत्तिजनक बयानों को देखते हुए तत्काल भाजपा को उन पर कड़ी कार्रवाई करना चाहिए, उन्हें प्रदेश मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता दिखाना चाहिए और भाजपा नेतृत्व को उनके इस बयान के लिए माफी भी मांगना चाहिए। कांग्रेस उनके इस बयान पर चुप नहीं बैठेगी और जब तक इस बयान पर भाजपा माफी नहीं मांग लेती व मंत्री जी पर कार्यवाही नहीं हो जाती है, तब तक हमारी लड़ाई जारी रहेगी।