Electricity: मध्य प्रदेश को मिलेगी अब तक की सबसे सस्ती बिजली, ये है बड़ा कारण

मध्य प्रदेश के लिये अब तक की यह सबसे सस्ती सोलर बिजली होगी।

ऊर्जा मंत्री

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के लिए राहत भरी खबर है। मध्य प्रदेश को अब तक की सबसे सस्ती सोलर बिजली(solar power) मिलेगी। दरअसल, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा विभाग(New and Renewable Energy Department) द्वारा आज आगर के 550 मेगावॉट सोलर पावर प्लांट की 2 यूनिट के लिये रिवर्स बिड 2.73 रुपये प्रति यूनिट के बेस टैरिफ से प्रारंभ हुई। बिड ऑफर में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर की 12 कम्पनियों ने हिस्सा लिया। न्यूनतम ऑफर के आधार पर क्रमश: दोनों यूनिट के लिये बीमपाव एनर्जी प्रायवेट लिमिटेड और अवाडा एनर्जी प्रायवेट लिमिटेड विकासक का चयन किया गया।

यह भी पढ़े,, MP Assembly 2021 : 9 अगस्त से शुरु होगा विधानसभा का मानसून सत्र, अधिसूचना जारी

इतना ही नहीं बीमपाव एनर्जी प्रायवेट लिमिटेड से 2.444 रुपये प्रति यूनिट और अवाडा एनर्जी प्रायवेट लिमिटेड की ओर से 2.459 प्रति रुपये यूनिट न्यूनतम ऑफर प्राप्त हुआ। मध्य प्रदेश के लिये अब तक की यह सबसे सस्ती सोलर बिजली होगी।आगर में निजी निवेश लगभग 1950 करोड़ रुपये की लागत से एक हजार हेक्टेयर भूमि पर 550 मेगावॉट की 2 यूनिट स्थापित की जायेंगी। परियोजना से मार्च 2023 में विद्युत उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। परियोजना स्थापना के दौरान लगभग 5500 और संचालन में लगभग 500 व्यक्तियों को रोजगार मिलेगा।

विभाग ने सौर परियोजना विकासकों से 26 जनवरी, 2020 को निविदा आमंत्रित की थी। निर्धारित विभिन्न अनुमोदनों और अनुमतियों को प्राप्त करने के बाद आगर सौर पार्क के लिये निविदा की अंतिम तारीख 21 जून, 2021 तक 3 अंतर्राष्ट्रीय, 9 राष्ट्रीय और 3 सार्वजनिक क्षेत्र की कम्पनियों ने भाग लिया। इनमें से न्यूनतम टैरिफ के आधार पर चुनी गई 12 कम्पनियों- TATA पावर, रि-न्यू पावर, बीमपाव एनर्जी, एनटीपीसी, अयान, रिन्यूएबल पावर, टोरेंट पावर, एसजेवीएन लिमिटेड, अज्यूर पावर, अल्जोमेह एनर्जी, एक्मे सोलर, स्प्रिंग ग्रीन और अवाडा एनर्जी ने रिवर्स ऑक्शन में भाग लिया।

यह भी पढ़े.. Modi Cabinet Expansion: BJP सांसद को मंत्रिमंडल में नहीं मिली जगह, नाराज 20 नेताओं का इस्तीफा

सीईओ रम्स दीपक सक्सेना ने बताया कि इस श्रंखला में शाजापुर सौर पार्क में भी 15 विकासकों द्वारा बिड प्रक्रिया में सहभागिता की गई है। इसका रिवर्स ऑक्शन 19 जुलाई को किया जाना है। इसके अलावा नीमच सौर पार्क के लिये 15 जुलाई तक प्रस्ताव प्राप्त किये जायेंगे।रम्स (RUMS) का गठन जुलाई-2015 में मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम लिमिटेड और सोलर एनर्जी कॉर्पोरेशन ऑफ इण्डिया की संयुक्त उपक्रम कम्पनी के रूप में किया गया। रम्स द्वारा स्थापित रीवा सौर परियोजना ने राष्ट्र स्तर पर सौर ऊर्जा के क्षेत्र में नये कीर्तिमान रचे हैं। रम्स द्वारा इसी कड़ी में प्रदेश में आगर 550 मेगावॉट, शाजापुर 450 मेगावाट और नीमच 500 मेगावॉट कुल 1500 मेगावाट की सौर परियोजनाओं का विकास किया जा रहा है।

बता दे कि विश्व की सबसे बड़ी सौर परियोजनाओं में से एक मध्य प्रदेश रीवा सौर परियोजना को तत्कालीन न्यूनतम सोलर टैरिफ 2.97 रुपये प्राप्त हुआ था। यह परियोजना 3 जनवरी, 2020 से पूर्ण क्षमता के साथ उत्पादन कर रही है। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने ठीक एक वर्ष पहले 10 जुलाई, 2020 को इसे राष्ट्र को समर्पित किया था।