भोपाल।
मध्यप्रदेश कांग्रेस की अनुशासन समिति की बैठक मंगलवार को पीसीसी मुख्यालय में हुई। इसमें अनुशासनहीनता से जुड़े तमाम मामलों पर चर्चा की गई और फैसले लिए गए। इस दौरान मप्र कांग्रेस ने 2 नेताओं को नोटिस दिया गया वही 1 को पद से हटा दिया। माना जा रहा है कि नोटिस का अगर संतोषजक जवाब नहीं आया तो उनका निष्कासन भी हो सकता है। प्रदेश कांग्रेस अनुशासन समिति की बैठक में अन्य 16 प्रकरणों पर भी विचार किया गया।

दरअसल, मंगलवार को हुई बैठक में कांग्रेस की प्रदेश अनुशासन समिति ने रिटायर्ड आईएफएस अफसर आजाद सिंह डबास को पिछड़ा वर्ग सलाहकार समिति के संयोजक पद से हटा दिया है। खबर है कि पार्टी लाइन से हटकर डबास ने राजगढ़ कलेक्टर निधि निवेदिता और डिप्टी कलेक्टर के थप्पड कार्रवाई पर सवाल खड़े किए थे। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र भी लिखा था। समिति ने शुरुआती कार्रवाई करते हुए डबास को शोकाॅज नोटिस जारी कर 7 दिन में जवाब मांगा है। इसके बाद आगे कार्रवाई की जाएगी।जबाव संतुष्टी वाला ना मिलने पर उन्हें पार्टी से निकाला भी जा सकता है।

वही 26 जनवरी को इंदौर में सीएम कमलनाथ के पहुंचने से पहले कांग्रेस नेताओं देवेंद्र यादव व चंदू कुंजीर के झगड़ने पर भी समिति ने नाराजगी जताई है। समिति ने कांग्रेस नेता देवेंद्र यादव व चंदू कुंजीर को नोटिस कर सात दिन में जवाब मांगा है। अनुशासन समिति के संतुष्ट न होने पर दोनों नेताओं पर पार्टी से बाहर निकाले जाने की कार्रवाई की जा सकती है।