लॉकडाउन के बीच शिवराज ने की बड़ी प्रशासनिक सर्जरी, कांग्रेस बोली-‘तबादला उद्योग शुरू’

भोपाल| कोरोना संकटकाल (Corona Crisis) के बीच मध्य प्रदेश सरकार (Madhya pradesh) ने शनिवार देर रात बड़ी प्रशासनिक सर्जरी करते हुए 50 अफसरों के तबादले (Ias Transfer) कर दिए| पूर्व की कमलनाथ सरकार (Kamalnath Government) के समय में भाजपा (BJP) तबादला उद्योग चलाने के आरोप लगाती थी, अब यही आरोप शिवराज सरकार (Shivraj Government) पर लगने लगे है| थोकबंद तबादलों को लेकर कांग्रेस ने सरकार को घेरा है|

दरअसल, पिछले कई सालों से बड़े विभागों की जिम्मेदारी संभाल रहे अधिकारियों को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लूप लाइन में भेज दिया है| शिवराज के चौथी बार मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार बड़ा प्रशासनिक फेरबदल किया गया है। सीएम पद की शपथ लेने के बाद लगातार अधिकारियों के तबादले जारी है| जिसको लेकर कांग्रेस ने हमला बोला है|

शिवराज से बड़ा तबादला उद्योग चलाने वाला कोई नहीं- सज्जन
पूर्व मंत्री सज्जन वर्मा ने कहा है कि शिवराज जी प्रदेश में सब उद्योग बंद होने के बावजूद आपने दो उद्योग चालू कर दिए हैं -पहला शराब और दूसरा ट्रांसफर उद्योग..! मध्यप्रदेश की जनता सब देख रही है। उन्होंने कहा कांग्रेस की सरकार 15 महीने रही, भाजपा की सरकार 15 साल रही| उन अधिकारियों को थोड़ा इधर उधर शिफ्ट किया था तो आपके पेट में बड़ा दर्द हो रहा था कि कमलनाथ जी तबादला उद्योग चला रहे हैं| पूर्व मंत्री ने कहा शिवराज जी आपसे बड़ा तबादला उद्योग चलाने वाला कोई नहीं है, दो महीने में इतने तबादले कर दिए, हाथी के दांत दिखाने के कुछ और खाने के कुछ और होते हैं|

फिर अधिकारियों की सरकार लौट गई है- सलूजा
कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने शिवराज सरकार पर मध्य प्रदेश में ट्रांसफर उद्योग चालू करने का आरोप लगाया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा – ‘लॉक डाउन में तो अभी सब कुछ बंद है, फिर भी अधिकारियों की पोस्टिंग को लेकर हर दिन नए प्रयोग हो रहे हैं। मंत्रिमंडल के पहले सभी मलाईदार विभागों में अपने चहेते अधिकारियों की पोस्टिंग की गई। उन्होंने कहा कि प्रदेश में एक बार फिर अधिकारियों की सरकार लौट गई है’।