कर्मचारी हित में परिवहन विभाग का बड़ा फैसला

भोपाल।

सरकार को सबसे ज्यादा राजस्व देने वाले विभागों में से एक परिवहन विभाग में अक्सर अधिकारियों की कमी का रोना रोया जाता है। हालात यह है कि प्रदेश के 52 जिलों में से अधिकांश में आरटीओ का पद प्रभारी अधिकारियों के हवाले है। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए अब परिवहन विभाग एक नया प्रयोग करने जा रहा है। हालांकि यह प्रयोग पहले भी मध्य प्रदेश सचिवालय, गृह विभाग, उच्च शिक्षा विभाग ,राजस्व मंडल और राजस्व विभाग भी कर चुके हैं ।विभाग शीघ्र लेखक वर्ग प्रथम (राजपत्रित सेवा 2) को पदोन्नत कर फील्ड पोस्टिंग देने की तैयारी में है। विभाग की इस निर्णय के पीछे सोच है कि एक तो इससे विभाग में काम करने वाले कर्मचारी अधिकारी प्रोत्साहित होंगे वहीं दूसरी ओर फील्ड में अधिकारियों की कमी को पूरा किया जा सकेगा और इसके कारण विभाग को राजस्व आय में और ज्यादा बढ़ोतरी होगी। परिवहन मंत्री, प्रमुख सचिव परिवहन और परिवहन आयुक्त तीनों की सम्मिलित योजना का लाभ परिवहन विभाग को मिलेगा, ऐसा साफ तौर पर लगता है।