मुख्य चिकित्सा अधिकारी के निर्देश पर मेडिकल बोर्ड का हुआ गठन, चुनाव के दौरान आवेदकों को जारी करेगा मेडिकल प्रमाण पत्र

Shashank Baranwal
Published on -
Jai prakash hospital

MP Election 2023: मध्य प्रदेश में विधानसभा की तारीखों के एलान के बाद प्रदेश में चुनावी तैयारियां जोरों शोरों से चल रही हैं। इसी सिलसिले में राजधानी भोपाल के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी प्रभाकर तिवारी के निर्देश पर मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया। मेडिकल बोर्ड का गठन चुनावी ड्यूटी में स्वास्थ्य की वजह से ली जाने वाली छूट के आवेदन की जांच करने के लिए किया गया है। बोर्ड प्रत्येक सप्ताह के सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को भोपाल के जय प्रकाश अस्पताल में कार्य करेगा।

मेडिकल बोर्ड के सदस्य

मुख्य चिकित्सा अधिकारी के आदेश के मुताबिक सोमवार को डॉ. राकेश श्रीवास्तव को मेडिकल बोर्ड का अध्यक्ष बनाया गया है। वहीं डॉ. शाहवर खान मेडिकल विशेषज्ञ, डॉ. निशा मिश्रा नेत्र रोग विशेषज्ञ, डॉ. प्रमेंद्र शर्मा अस्थि रोग विशेषज्ञ के साथ डॉ. बलराम उपाध्याय आर.एम.ओ. को सदस्य बनाया गया है।

वहीं बुधवार को डॉ. योगेन्द्र श्रीवास्तव मेडीकल विशेषज्ञ, डॉ. नीलू गुप्ता नेत्र रोग विशेषज्ञ और डॉ. अभिषेक चतुर्वेदी अस्थि रोग विशेषज्ञ को सदस्य बनाया गया है।

जबकि शुक्रवार को डॉ. वी. के. दुबे मेडीकल विशेषज्ञ, डॉ. सीमा सिंह नेत्र रोग विशेषज्ञ और  डॉ. के. के. देवपुजारी अस्थि रोग विशेषज्ञ को सदस्य बनाया गया है।

आपको बता दें मेडिकल बोर्ड के इन सदस्यों द्वारा चुनाव के दौरान छूट लेने वाले आवेदकों को मेडिकल परीक्षण का प्रमाण पत्र दिया जाएगा। वहीं मेडिकल बोर्ड प्रभारी शोभनाथ दूबे इस दौरान प्राप्त आवेदनों और जारी प्रमाण पत्रों का रिकॉर्ड रखेंगे।


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News