MP News: गर्मी की छुट्टियों में भी वितरित हो रहा मिड डे मील भोजन, केंद्र सरकार ने पकड़ी गड़बड़ी, जाँच के दिए निर्देश

पीएम पोषण शक्ति निर्माण के तरफ से लिखी गए पत्र में कहा गया है कि जब स्कूलों में बच्चों का छुट्टी के कारण आना जाना बंद है तब फर भी शाला प्रभारियों द्वारा मिड डे मील भोजन के वितरण की रिपोर्टिंग पोर्टल पर की जा रही है, जोकि गलत है।

Mid day meal

MP News: मध्य प्रदेश के सरकारी स्कूलों में गर्मी की छुट्टियां शुरू हो गई हैं। स्कूलों में 1 मई से लेकर 15 जून 2024 तक छुट्टियां हैं। ऐसे में बच्चों के स्कूल ना जाने पर प्रदेश के 23 जिलों में मिड डे मील यानी मध्यान्ह भोजन बांटा जा रहा है, जोकि लगातार पोर्टल पर अपलोड हो रहा है। मिड डे मील में हो रही गड़बड़ी को केंद्र सरकार की तरफ से पकड़ा गया है। वहीं, मध्य प्रदेश की सरकार को पत्र लिखकर इस मामले में कड़ा एक्शन लेने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा जिले के कलेक्टर को पत्र भेजकर जांच करने की बात कही गई है।

प्रधानमंत्री पोषण शक्ति निर्माण ने भेजा पत्र

एमपी की सरकारी स्कूलों में मिड डे मील भोजन में हो रही गड़बड़ी को लेकर प्रधानमंत्री पोषम शक्ति निर्माण कार्यक्रम के राज्य समन्वयक ने खुलासा करते हुए जिला पंचायत सीईओ को 16 मई को पत्र लिखा गया, जिसमें कहा गया है कि 1 मई से 15 जून 2024 तक गर्मियों की छुट्टी हो गई है। इस दौरान पीएम पोषण कार्यक्रम के तहत मिड डे मील का वितरण नहीं किया जाना है, फिर भी पोर्टल पर लगातार अपलोड किया जा रहा है। आपको बता दें पीएम पोषण शक्ति निर्माण के कार्यक्रम के ऑटोमेटेड मॉनिटरिंग सिस्टम पोर्टल के जरिए मिड डे मील की रिपोर्टिंग की जाती है।

कार्यवाही के निर्देश

पीएम पोषण शक्ति निर्माण के तरफ से लिखी गए पत्र में कहा गया है कि जब स्कूलों में बच्चों का छुट्टी के कारण आना जाना बंद है तब फर भी शाला प्रभारियों द्वारा मिड डे मील भोजन के वितरण की रिपोर्टिंग पोर्टल पर की जा रही है, जोकि गलत है। वहीं, इस मामले में भारत सरकार की तरफ से नाराजगी जताई गई है। ऐसे में गलत रिपोर्टिंग करने वाले शाला प्रभारियों के खिलाफ कार्यवाही करते हुए परिषद को जानकारी दी जाए।

इन जिलों में हो रहा मिड डे मील का वितरण

मध्य प्रदेश के कुल 23 जिलों के सरकारी स्कूलों में छुट्टी के दौरान भी मिड डे मील भोजन का वितरण किया जा रहा है। इसमें सतना, बड़वानी, भिण्ड, रायसेन, जबलपुर, गुना, दमोह, आगर मालवा, मंडला, झाबुआ, बालाघाट, मंदसौर, भोपाल, बैतूल, नरसिंहपुर, डिंडौरी, सागर, रतलाम, शहडोल, सिवनी, शिवपुरी, टीकमगढ़ और श्योपुर जिले शामिल हैं।

Mid day meal


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है–खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालोमैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।