मंत्री ने क्षमा मांगी “किसी को ठेस पहुंचाने का कोई भाव नहीं था”

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश सरकार के खाद्य व नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने खुद के वायरल हुए वीडियो को एडिट किया हुआ बताया है। उनका कहना है कि किसी को ठेस पहुंचाने का उनका कोई भाव नहीं था फिर भी उन्होंने खेद जताते हुए इसके लिए क्षमा मांगी है। गुरुवार को प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री  बिसाहूलाल सिंह का एक वीडियो जमकर वायरल हुआ था। दरअसल 24 नवंबर को मंत्री जी अपनी विधानसभा के फुनगा गांव में एक सामाजिक संस्था के कार्यक्रम में गए थे और कार्यक्रम के संबोधन के दौरान उन्होंने सामान्य वर्ग की महिलाओं को लेकर जो कुछ बोला, उसे लेकर बवाल मच गया। करणी सेना ने तो मंत्री जी के पुतले तक फूंक डाले और मुंह काला करने की चेतावनी तक दे दी।

बिजली और खाद न मिलने से आक्रोशित किसानों ने किया चक्काजाम, दी चेतावनी

प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक जयवर्धन सिंह ने मंत्री जी के खिलाफ ट्वीट कर दिया। अब मंत्री जी ने बाकायदा प्रेस विज्ञप्ति जारी की है और अपनी सफाई दी है। उनका कहना है कि जब वे कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे तो स्थानीय भाषा में उन्होंने अपने भाव के साथ पार्टी के कई उन कार्यकर्ताओं को, जो सामान्य वर्ग से आते हैं, संबोधित करते हुए कहा था कि आपके घरों की महिलाओं को भी सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्र में बराबर की भागीदारी करनी चाहिए। मंत्री ने प्रेस विज्ञप्ति में लिखा है कि मैंने अपनी स्थानीय भाषा में उपस्थित महिलाओं से कहा कि आप क्षत्रिय व अन्य सामान्य वर्ग की महिलाओं के घर जाकर उनसे संपर्क कर उन्हें भी घर से बाहर निकाल कर अपने साथ सामाजिक कार्य में जोड़िए ताकि उनकी शिक्षा एवं योग्यता का लाभ वंचित एवं गरीब वर्ग की महिलाओं को मिल सके। मंत्री जी ने लिखा है कि मेरा उद्देश्य एक पवित्र भाव के साथ था और यह संपूर्ण नारी समाज के सशक्तिकरण के लिए था लेकिन दुर्भाग्य से कुछ विघ्न संतोषी विचारधारा के राजनीतिक कार्यकर्ताओं ने मेरे संपूर्ण भाषण को प्रदर्शित ना करके उसमें से कुछ अंश निकालकर प्रदर्शित किए ताकि लोगों की भावनाएं उद्वेलित की जा सके। मंत्री जी ने लिखा है कि “यदि मेरे व्यक्तव्य से किसी जाति या वर्ग क्षुब्ध हुआ है तो मैं बड़ी विनम्रता से कह रहा हूं कि मेरे मन में ऐसा कोई भाव नहीं था। इसके बाद भी मुझे खेद व्यक्त करने या क्षमा मांगने में कोई गुरेज नहीं।” मंत्री जी की विज्ञप्ति के साथ ही इस मामले का पटाक्षेप होने की पूरी उम्मीद है।

मंत्री ने क्षमा मांगी "किसी को ठेस पहुंचाने का कोई भाव नहीं था"मंत्री ने क्षमा मांगी "किसी को ठेस पहुंचाने का कोई भाव नहीं था"