मंत्री सारंग ने किया हमीदिया अस्पताल का निरीक्षण, अस्पतालों की मशीनों पर ऑडिट रिपोर्ट लगाने के दिए निर्देश

उपचार के दौरान उपयोग करने वाली सारी मशीनों में ऑडिट रिपोर्ट लगाई जाएगी। ऑडिट रिपोर्ट में मशीन की मैन्युफैक्चरिंग डेट और पिछली बार मशीन की कब सर्विसिंग हुई थी उसकी पूरी जानकारी भी रहेगी।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| राजधानी के हमीदिया अस्पताल (Hamidya Hospital) में बिजली (Electricity) गुल होने से हुई तीन कोरोना मरीजों (Corona Patients) की मौत का मामला अब तूल पकड़ने लगा है। अस्पताल प्रबंधन को एक दिन पहले क्लीन चिट देने के बाद चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग (Medical Education Minister Vishwas Sarang) ने आज हमीदिया अस्पताल पहुंच कर अधिकारियों के साथ बैठक की।

मशीनों पर लगेगी ऑडिट रिपोर्ट
बैठक कर बाहर आए मंत्री सारंग ने मीडिया से चर्चा में बताया कि, यह सुनिश्चित किया है कि सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त हो जाएं। 2 दिन पहले हुए तीन कोरोनावायरस की मौत को लेकर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि ऐसी कोई घटना दोबारा ना हो इसको लेकर भी निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि उपचार के दौरान उपयोग करने वाली सारी मशीनों में ऑडिट रिपोर्ट लगाई जाएगी। ऑडिट रिपोर्ट में मशीन की मैन्युफैक्चरिंग डेट और पिछली बार मशीन की कब सर्विसिंग हुई थी उसकी पूरी जानकारी भी रहेगी। उन्होंने बताया कि अस्पतालों में जो मशीनें लगी है उसके रखरखाव के लिए जो भी एजेंसी काम कर रही है। उन्होंने बताया कि संबंधित डिपार्टमेंट के एचओडी भी उसकी देखरेख करेंगे।

एमएसडब्ल्यू वर्कर लेंगे मरीजों की जानकारी
मंत्री सारंग ने कहा कि सभी मरीजों को सही इलाज मिले और उसका हमें सही तरीके से फीडबैक मिले इसके लिए अगले हफ्ते से नई व्यवस्था शुरू की जाएगी। उन्होंने बताया कि जो एमएसडब्ल्यू वर्कर हैं वह पूरे अस्पताल में अलग-अलग समय घूम कर अटेंडेंट से उनके मरीजों की जानकारी लेंगे। अगर अटेंडेंट को व्यवस्था में कोई दिक्कत नजर आती है तो वह समय सीमा में डीन को और अधीक्षक को उसकी सूचना देंगे। जिसके बाद डीन और अधीक्षक संबंधित डॉक्टर से बातचीत कर समस्या का निदान करेंगे।

दअर्सल दो दिन पहले हमीदिया अस्पताल में तीन कोविड-19 के मरीजों की मौत हो गई थी। अस्पताल प्रबंधन पर आरोप लगाए जा रहे है कि मरीजों की मौत का कारण अस्पताल की बिजली जाना है। हालांकि अस्पताल प्रबंधन लाइट के कारण मरीजों की मौत होने के कारण से इनकार कर चुका है। प्रबंधन का कहना है कि अस्पताल में बैकअप की पूरी व्यवस्था थी। मरीजों की मौत लाइट जाने कारण नहीं हुई है। मंत्री सारंग ने शनिवार को मीडिया से चर्चा में बताया था कि अस्पताल प्रबंधन ने किसी तरह की लापरवाही नहीं बरती थी। मरीजों की मौत अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही से नहीं हुई है।