हमीदिया अस्पताल में गंदगी देखकर भड़के मंत्री सारंग- जमकर लगाई फटकार

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल का सुल्तानिया अस्पताल मानसून से पहले हमीदिया अस्पताल परिसर में बनी नई बिल्डिंग में शिफ्ट हो जाएगा। सोमवार को मध्यप्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने हमीदिया अस्पताल की नई बिल्डिंग का जायजा लिया, हालांकि इस दौरान अस्पताल में गंदगी देखकर मंत्री बिफर गए और उन्होंने मौके पर ही मौजूद हमीदिया के स्टाफ और अधिकारियों के सामने हमीदिया अस्पताल की सफाई और मेंटेनेन्स संभालने वाली UDS कम्पनी के मैनेजर को जमकर फटकार लगाई। इसके साथ ही मंत्री सारंग ने संभाग कमिश्नर गुलशन बामरा को कंपनी पर जुर्माना लगाने के निर्देश। चिकित्सा शिक्षा मंत्री सारंग ने कहा की इस कंपनी का पेमेंट ही नही रोके बल्कि जुर्माना भी करें।

यह भी पढ़ें… Mandsaur News: माता के दरबार में हुआ अश्लील डांस, गुस्साई जनता ने हंगामा किया

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने हमीदिया अस्पताल की नई बिल्डिंग के दौरे के साथ ही अधिकारियों और स्टाफ को निर्देश देते हुए अस्पताल शिफ्ट करने के लिए 300 बिस्तर आवश्यक रूप से निर्धारित करने को कहा। सारंग ने कहा कि नए भवन में महिला अस्पताल सबसे पहले शिफ्ट करें। बारिश से पहले एक माह में हर हाल में 300 बेड के इस अस्पताल शिफ्ट करने का कार्य पूर्ण किया जाए। उन्होंने कहा कि प्लानिग इस तरह की जाए कि वार्ड के साथ ओटी भी शिफ्ट हो जाए। वही मंत्री सारंग ने आवश्यक उपकरण खरीदने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आवश्यक मैनपॉवर का आकलन भी पहले से कर लिया जाए। उन्होंने बिल्डिंग मेंटनेंस के लिए सिविल विंग बनाने, लाउंड्री और मरीजों के खाने की व्यवस्था के लिए आउटसोर्स करने और आवश्यक उपकरण एवं मशीनों की लिस्ट फाइनल करने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें…. भाजपा प्रदेश कार्यालय में कोर कमेटी की बैठक, BJP जुटी 2023 चुनाव की रणनीति बनाने में

मंत्री ने कहा कि विभागवार शिफ्टिंग का फॉर्मेट तैयार कर विशेषज्ञों की उपस्थिति में उपकरणों की शिफ्टिंग कराए। इसके साथ ही मंत्री सारंग ने पीडियाट्रिक डिपार्टमेंट में व्यवस्थाओं का भी जायज़ा लिया, अब हमीदिया अस्पताल की नई बिल्डिंग में सुल्तानिया अस्पताल के शिफ्ट होने के बाद मरीजों को एक ही बिल्डिंग में पीडियाट्रिक और मैटरनिटी की सुविधा मिलेगी, वही मंत्री सारंग ने मरीजों की सुविधा के लिये HMIS सिस्टम शुरू करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान भोपाल कमिश्नर और जीएमसी डीन भी मौजूद रहे। गौरतलब है कि नई अस्पताल बिल्डिंग में 21 ओटी होगी, जिसमें से 3 इमरजेंसी निर्धारित की गई है।