नाथ पर मिश्रा का वार-जब निकलना था तब बाहर नही गए तो अब क्या जाएंगे

भोपाल।
कोरोना संकटकाल(corona crisis) के बीच एमपी(mp) में सियासी पारा जमकर उछाल मार रहा है। सत्तापक्ष और विपक्ष एक दूसरे पर वार करने से चूक नही रहे है।खास करके विपक्ष की तरफ से लेटर वार तेजी से चल रहा है। आए दिन विपक्ष के बड़े नेता शिवराज सरकार(shivraj sarkar) को पत्र लिख नई नई मांग कर रहे है, जिसका सरकार भी जमकर पलटवार कर रही है। अब पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ(former chief minister kamalnath) द्वारा सीएम शिवराज (cm shivraj)को लिखे पत्र पर स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा(health minister narottam mishra) ने पलटवार किया है। मिश्रा का कहना है कि मजदूरों के आने जाने का कही पैसा दिया हो तो बताएं। केवल मीडिया में आने के लिए इस तरह का पत्र लिखते है। जब मैदान में निकलना था तब नहीं गए अब क्या जायेगे।

वही किसानों को लेकर कहा कि प्रदेश में अब रिकॉर्ड 53 लाख टन गेंहू खरीदी ही चुकी है।कोरोना को लेकर मिश्रा ने कहा कि कोरोना चिंता की बात है घबराने की नहीँ। कोई स्वस्थ व्यक्ति को कोरोना होता है और वो तीन दिन के अंदर अस्पताल पहुँचता है तो उसकी मौत नहीं होगी। सरकार के पूरे प्रबंध है।हमारी चिंता है कि मौतें कम हो। मरीज मिल भी रहे है औऱ ठीक भी हो रहे है।

प्रवासी मजदूरों को लेकर नरोत्तम मिश्रा ने कहा अब तक 1 लाख मजदूर वापस आ चुके है।चार ट्रेन मजदूरों को लेकर आ चुकी है।शनिवार को 9 ट्रेन आ रही है।अगले एक हफ्ते में दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को लेकर 50 ट्रेन मध्यप्रदेश आएगी। हमारी कोशिश रहेगी की हर जिले में एक ट्रेन आये, ताकि कलेक्टर को परेशान न होना पड़े। बेहतर तरीके से लोगों को सोशल डिस्टेंसिग की मदद से घर पहुँचाया जा सकें। सबसे ज्यादा 23 ट्रेन गुजरात से आएगी। जम्मू कश्मीर के मप्र में रहने वाले 600 छात्रों को 25 बसों से भेजने की व्यवस्था की है। ट्रेन से छात्रों को भेजने की व्यवस्था कर रहे है।