MP में एक पद के लिए 1 हजार से ज्यादा दावेदार, एमबीए व इंजीनियर डिग्रीधारी भी लगे कतार में

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।
मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में शिक्षित बेरोजगारों की संख्या तेजी से बढ़ रही है| प्रदेश का युवा सरकारी भर्तियों के इन्तजार में हैं| हालात ऐसे हैं कि जेल प्रहरी (Jail Guard) के लगभग 300 पदों के लिए तीन लाख से अधिक आवेदान आ चुके हैं| बड़ी संख्या में इंजीनियरिंग और एमबीए डिग्रीधारी भी कतार में हैं| इस तरह एक पद पर औसतन 1 हजार से अधिक दावेदार होंगे|

यह परीक्षा नवंबर में होगी। प्रदेश के हजारों इंजीनियरिंग और एमबीए डिग्रीधारियों ने भी जेल प्रहरी की परीक्षा के लिए आवेदन दिया है| 2018 के बाद 2020 में जेल मुख्यालय के लिए पीईबी ने जेल प्रहरी के 300 पदों के लिए सीधी भर्ती निकाली है। इसके लिए आवेदन की अंतिम तारीख 24 अगस्त बीत चुकी है। इसके लिए आवेदन तीन लाख से अधिक आए हैं। हालांकि इस पद के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता बारहवीं है। जेल प्रहरी का वेतन 25 से 30 हजार रुपये के बीच है

इससे पूर्व यह भर्ती परीक्षा वर्ष 2017 में हुई थी। तीन साल भर्ती परीक्षा नहीं होने से भी इस बार बड़ी संख्या में उम्मीदवार परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं। संविदा के जेल प्रहरी के 300 पदों में से बीस फीसद पद संविदा के होंगे। यानी एक तय समय सीमा के लिए ही इन पदों पर उम्मीदवारों की भर्ती होगी। परीक्षा की प्रावीण्य सूची के आधार पर चयन होगा। 240 पद नियमित जेल प्रहरी के होंगे, जबकि 60 पद संविदा के होंगे।