देर रात चैटिंग करने पर मां ने फटकारा, बेटी ने छठवीं मंजिल से कूदकर दे दी जान

Mother-stopped-chatting-on-mobile-daughter-jumped-from-the-building-in-bhopal

भोपाल। एक मां ने देर रात साढ़े तीन बजे मोबाइल चलाते देखने के बाद में बेटी को फटकार लगा दी। उससे मोबाइल फोन छीन लिया। यह बात बेटी को खासी नागवार गुजरी। जिसके बाद में लड़की ने तड़के अपनी बिल्डिंग की छठवीं मंजिल से छलांग लगा दी। घटना कोलार स्थित जानकी अपार्टमेंट की है। लड़की को पड़ोसियों और मां ने बंसल अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां इलाज के दौरान शाम साढ़े सात बजे उसकी मौत हो गई। पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है। मामले की जांच की जा रही है। 

टीआई अनिल वाजपेयी के अनुसार मैत्री तिवारी पुत्री ओम तिवारी (14) निवासी लैट नंबर 603 जानकी अपार्टमेंट आठवीं कक्षा की छात्रा थी। वह सेंटजोसफ कॉनवेंट स्कूल ईदगाह हिल्स में पढ़ती थी। उसके पिता ओडिशा में डब्ल्यूएचओ में डाक्टर हैं, जबकि मां शिखा तिवारी गृहणी हैं तथा कॉलोनी की उपाध्यक्ष हैं। किशोरी मां के साथ में यहां अकेली रहती थी। लड़की की मां ने पुलिस को बताया कि मैत्री कुछ दिनों से अधिक मोबाइल चलाने लगी थी। अकसर चेटिंग करती रहती थी। गुरुवार-शुक्रवार की देर रात उन्होंने उसे मोबाइल चलाते देखने के बाद में फटकार दिया था। इसके बाद में उससे मोबाइल लेकर अपने पास में रख लिया था। बेटी मोबाइल लौटने की जिद कर रही थी। जब उन्होंने मोबाइल नहीं दिया तो वह शुक्रवार तड़के पांच बजे अपार्टमेंट की छठवी मंजिल पर स्थित अपने लैट की बालकनी से छलांग लगा दी। 

– धमाके की आवाज से गार्ड और पड़ोसियों की नींद खुली

मैत्री के गिरते ही जोरदार धमाके की आवाज से बिल्डिंग में नीचे रहने वाले लोगों की नींद खुल गई। हालांकि बच्ची को गिरने के बाद में सबसे पहले गार्ड ने देखा और शिखा तिवारी को घटना की जानकारी दी थी। मां तत्काल नीचे पहुंची और पड़ोसियों तथा गार्ड की मदद से तत्काल बेटी को बंसल अस्पताल लेकर पहुंची। जहां शाम साढ़े चार बजे तक मौत से लडऩे के बाद में मैत्री ने दम तोड़ दिया।

– मां पर टूटा दुख का पहाड़

मैत्री की मौत के बाद में उसकी मां पर दुखों का पाहड़ टूट गया है। उनका रो-रोकर बुरा हाल है। कई बार उनकी तबियत बिगड़ चुकी है। मृतका के पिता को कॉल पर सूचना दे दी गई थी। शुक्रवार देर रात तक उनके पिता भोपाल पहुंच गए थे। मैत्री अपने माता पिता की अकलौती और लाडली संतान थी। यही कारण है कि वह काफी जिद्दी भी थी। मैत्री का शव मरचुरी में पहुंचा दिया गया है। कल पिता की अगुवाही में उसका पीएम कराया जाएगा। वहीं मौत की खबर के बाद में कॉलोनी का माहौल भी गंमगीन है। मृतका की मां को दिलासा देने पड़ोसी और रिश्तेदारों का उसके घर तांता लगा है।