MP Board 12th : EXAM के एक दिन पहले फिर जारी हुए ये दिशा-निर्देश

शिवराज सरकार

भोपाल।
लॉकडाउन(lockdown) के ढाई महीनों बाद अब शिक्षा व्यवस्था (Education system) पटरी पर लौटने लगी है। एमपी बोर्ड(mp board) की 12 वीं की परीक्षा 9 जून से शुरू होने जा रही है, जिसे लेकर कई दिशा निर्देश जारी किए गए हैं।कोरोना संक्रमण (corona virus)के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए विशेष सर्तकता रखी जा रही है। इसी कड़ी में परीक्षा के एक दिन पहले फिर नए दिशा निर्देश जारी किए गए है, जिसके तहत नकल की पर्ची निकालने पर्यवेक्षक किसी भी छात्र के जेब में हाथ नहीं डालेंगे ।

दरअसल, कोरोना संक्रमण को देखते हुए यह फैसला लिया गया है।विभाग ने परीक्षा कार्य में लगे सभी शिक्षकों को भी अपनी व छात्रों की सुरक्षा को ध्यान रखते हुए छात्रों की निगरानी के निर्देश दिए हैं। अगर किसी के पास नकल पर्ची मिलती है तो चेकर (पर्यवेक्षक) परीक्षार्थियों की जेब में हाथ नहीं डालेंगे बल्कि विद्यार्थी खुद पर्चियां-कॉपियां जमा करेंगे। इसके बाद परीक्षक व केंद्राध्यक्ष उसका नकल प्रकरण बनाएंगे।इसके अलावा परीक्षा कक्ष में पर्यवेक्षक छात्र के प्रश्न पत्र या उत्तर पुस्तिका को उठाकर चेक नहीं कर पाएंगे।परीक्षा के दौरान नकलची छात्रों पर नजर रखने के लिए स्कूल शिक्षा विभाग ने जिला शिक्षा कार्यलय स्तर पर आठ उड़नदस्ते बनाए हैं।

 

प्रवेश-पत्र पर जरुरी नही प्राचार्य के हस्ताक्षर

मण्डल द्वारा छात्र हित में निर्णय लिया गया है कि यदि कोई छात्र जिला परिवर्तन के कारण या किसी अन्य कारण से प्रवेश-पत्र पर प्राचार्य के हस्ताक्षर कराने में असमर्थ है, तब भी छात्र को परीक्षा में शामिल होने दिया जायेगा। जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि वे सुनिश्चित करें कि कोई भी विद्यार्थी इस कारण से परीक्षा से वंचित न रहे।परीक्षा में शामिल होने वाले सभी परीक्षार्थियों के संशोधित तिथि एवं जिला परिवर्तन/केन्द्र परिवर्तन से संबंधित प्रवेश-पत्र माध्यमिक शिक्षा मण्डल(Board of Secondary Education) द्वारा ऑनलाइन जारी किये गये हैं। संबंधित संस्था/छात्र एम.पी. ऑनलाइन पोर्टल (Mponline portal) एवं मोबाइल एप के माध्यम से प्रवेश-पत्र डाउनलोड(Admit card download) कर सकते हैं। ऑनलाइन उपलब्ध कराये गये प्रवेश-पत्रों में संस्था प्राचार्य के हस्ताक्षर एवं पदमुद्रा(Principal’s signature and Padmudra) का प्रावधान है।

परिवार में किसी को कोरोना तो नही दें सकेंगे परीक्षा

जारी निर्देश के अनुसार, अगर उनके परिवार के किसी सदस्य को कोरोना है या फिर परिवार का कोई सदस्य क्वारेंटाइन है तो ऐसे परीक्षार्थी कक्षा 12वीं की परीक्षा में शामिल नहीं हो सकेंगे। परीक्षा केंद्र में शामिल हो रहे परीक्षार्थियों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए एमपी बोर्ड ने ऐसे निर्देश दिए हैं। वही मंडल द्वारा जारी दिशा निर्देशाों के अनुसार, प्रदेश भर में हर परीक्षा केंद्र पर एक आइसोलेशन रूम (Isolation room) तैयार करवाया जा रहा है, ताकी किसी छात्र को सर्दी-खांसी या बुखार हो तो उसे आइसोलेशन रूम में बैठाकर परीक्षा दिलाई जा सके। कक्षा 12वीं की परीक्षा में सर्दी, खांसी और हल्के बुखार वाले परीक्षार्थियों की परीक्षा न छूटे इसके लिए एमपी बोर्ड ने आइसोलेशन रूम (यानी रिजर्व रूम )बनाने की तैयारी की है। थर्मल स्क्रीनिंग के दौरान जिस भी परीक्षार्थी का तापमान (Temperature) तय मानकों से ज्यादा रहेगा उन्हें अलग से आइसोलेशन रूम में बैठाकर परीक्षा दिलवाई जाएगी। इतना ही नही परीक्षा में शामिल सभी शिक्षक, कर्मचारी एवं अन्य अमले की भी नियमित रूप से स्क्रीनिंग कराई जाएगी। सभी को मास्क पहनना अनिवार्य है

एक घंटे पहले पहुंचना होगा
12वीं के परीक्षार्थियों को एक घंटे पहले ही सेंटर पहुंचना होगा। यहां स्क्रीनिंग के बाद उन्हें प्रवेश दिया जाएगा। कोरोना को लेकर शारीरिक दूरी का ध्यान रखते हुए सभी को दूर-दूर बैठाया जाएगा।

ऑनलाइन आवेदन न करने पर भी दे सकेंगे परीक्षा
यदि कोई छात्र निर्धारित तिथि में ऑनलाइन आवेदन नहीं कर पाया है, तो ऐसे छात्र को जिला शिक्षा अधिकारी छात्र के आवेदन पर ही परीक्षा में शामिल कर सकेंगे तथा इसकी सूचना माध्यमिक शिक्षा मण्डल को देंगे। मण्डल ने यह सुविधा इसलिये दी है कि कोई भी छात्र परीक्षा देने से वंचित न रहे।

इंदौर के छात्रों के लिए ये है नियम

रेड जोन वाले इंदौर शहर में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए कडी निगरानी रखी जा रही है।परीक्षा केंद्रों (Examination Centers) पर स्वास्थ्यकर्मी भी तैनात होंगे। कंटेनमेंट क्षेत्र (Containment Area) में कोई भी परीक्षा केंद्र नहीं बनाया गया है। कंटेनमेंट क्षेत्र में बने आठ परीक्षा केंद्रों को बदलकर उनके स्थान पर निजी स्कूल व कॉलेजों (Private Schools & Colleges) में नए परीक्षा केंद्र बनाए जा रहे हैं। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा कंटेनमेंट क्षेत्र में रहने वाले बच्चों को चिन्हित किया जा रहा है। कंटेनमेंट क्षेत्र में रहने वाले छात्रों के आने-जाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा बस या अन्य वाहन का इंतजाम किया जाएगा। इसके अलावा कंटेनमेंट क्षेत्र के छात्रों को परीक्षा केंद्र में एक अलग कक्ष में बैठाया जाएगा।शहर में 131 परीक्षा केंद्रों पर दो शिफ्ट में परीक्षा होगी। इसमें सुबह 9 बजे और दोपहर में 2 बजे से परीक्षा होगी। परीक्षा केंद्रों पर छात्रों को थर्मल स्क्रीनिंग, हैंड सैनिटाइजेशन व शारीरिक दूरी के हिसाब से परीक्षा कक्ष में प्रवेश करना है। इस कारण इन्हें परीक्षा केंद्र पर एक घंटा पहले पहुंचने के निर्देश दिए गए हैं।

बता दे कि एमपी बोर्ड की 12वी की कुछ पेपर की परीक्षा अभी बची हुई थी। ये परीक्षा अब दो महीने से भी ज्यादा समय तक जारी लॉकडाउन के कारण नहीं हो सके थे। अब ये परीक्षा 9 जून से शुरू हो रही है। एमपी बोर्ड के अनुसार इन परीक्षाओं का संचालन 16 जून तक होगा। ऐसे में अगर आप भी एमपी बोर्ड के छात्र हैं तो आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं।

परीक्षा पर एक नजर
12वीं परीक्षा में कुल विद्यार्थी : साढ़े 8 लाख
कुल परीक्षा केंद्र : 3682
केंद्र बदले गए : 28
उपकेंद्र की संख्या : 42