भोपाल।

शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार (Shivraj cabinet expansion) होते ही 15 महिनों में ही सत्ता से बाहर कांग्रेस ने उपचुनाव के सहारे वापसी की तैयारियां शुरु कर दी है। इसी सिलसिले में अब हाल ही में कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी बनाए गए मुकुल वासनिक (State In-charge Mukul Wasnik) आज रविवार को मध्यप्रदेश (Madhypradesh) के दो दिवसीय दौरे पर आ रहे हैं। वासनिक यहां चुनाव प्रभारियों की बैठक लेंगे और उपचुनावों (by election) को लेकर रणनीति तैयार करेंगे।बैठक के दौरान वासनिक विधानसभा क्षेत्रों की रिपोर्ट (Assembly constituency report)भी प्रभारियों से लेंगे। वही 6 जुलाई को संगठनात्मक समीक्षा करेंगे।

इससे पहले वासनिक राज्यसभा चुनाव के दौरान मप्र में तीन दिवसीय दोरे पर पहुंचे थे, जिसका असर ये हुआ कि कांग्रेस विधायकों में भी एकजुटता देखने को मिली थी और बीजेपी से क्रास वोटिंग हो गई। उपचुनाव की दृष्टि से इस बैठक को बेहद अहम माना जा रहा है। बैठक के दौरान चुनाव में भुनाए जाने वाले मुद्दों को भी तय किया जाएगा। वही सिंधिया और शिवराज सरकार की घेराबंदी पर भी फोकस रहेगा। इतना ही नही उन नेताओं पर भी नजर रखी जा रही है जो विस्तार के बाद नाराज है और उपचुनाव में दावेदारी ठोक रहे है। खबर है कि कमलनाथ उम्मीदवारों के चयन को लेकर ग्राउंड लेवल पर विभिन्न एजेंसियों से सर्वे भी करवा रहे हैं, ऐसे में आने वाले दिनों में कांग्रेस बड़ा दांव खेलने की तैयारी में है।चुंकी बीजेपी की तरफ से प्रत्याशी तय है और इनमें से कईयों को मंत्री भी बनाया जा चुका है, ऐसे में कांग्रेस की भी 31 जुलाई से पहले प्रत्याशियों की लिस्ट फाइनल करने की तैयारी है, ताकी प्रत्याशियों को मैदान में उतरने में आसानी और मुद्दों को भुनाने का ज्यादा समय मिले।

पूर्व मंत्री पीसी शर्मा का कहना है कि कांग्रेस मजबूत रणनीति के साथ मैदान में उतरने की तैयारी कर रही है, सभी पूर्व मंत्रियों को विधानसभा की जिम्मेदारी दी गई है। एक पूर्व मंत्री के साथ 4 विधायक पूर्व विधायक रहेंगे, चुनाव जनता लड़ेगी साथ ही पीसी शर्मा ने कहा कि इस बार कांग्रेस नहीं बल्कि जनता चुनाव लड़ेगी।

ऐसा रहेगा वासनिक का दो दिवसीय दौर

प्रदेश मीडिया उपाध्यक्ष भूपेन्द्र गुप्ता ने बताया कि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महामंत्री एवं प्रदेश के प्रभारी मुकुल वासनिक आज 5 जुलाई को चुनावी जमावट के लिये भोपाल आ रहे हैं। वे 24 उपचुनाव क्षेत्रों के प्रभारियों से भोपाल में वन टू वन चर्चा करेंगे ।प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के प्रभारी पूर्व मंत्री, जिला अध्यक्ष एवं अन्य वरिष्ठ नेताओं से विमर्ष कर चुनाव की तैयारियों की समीक्षा करेंगे ।इसी दौरान समस्त मोर्चा संगठनों के अध्यक्षों,विभागों के अध्यक्षों एवं उनके पदाधिकारियों के दायित्व की भी वे जानकारी लेंगे और मार्गदर्शन करेंगे।वही वासनिक 6 जुलाई को भी संगठनात्मक समीक्षा करेंगे।

(भोपाल से पूजा खोदाणी की रिपोर्ट)