MP-ELECTION--70-percent--of-BJP-Congress-candidates-contesting-for-the-elections

भोपाल।

मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं और इसकी वजह से राज्य में राजनीतिक सरगर्मियां तेज होती जा रही हैं। वही नामांकन के समय प्रत्याशियों द्वारा नामांकन फॉर्म में भरी गई जानकारियों से नित नए खुलासे हो रहे है।कही प्रत्याशियों के आपराधिक आंकड़े सामने आ रहे है तो कही शस्त्रों की जानकारी तो कही आमदनी के मुख्य साधनों का खुलासा हो रहा है। इसी बीच खुलासा हुआ है कि इस बार चुनावी मैदान में अपना भाग्य अजमा रहे भाजपा और कांग्रेस के 70 फीसदी प्रत्याशियों की आमदनी का मुख्य जरिया खेती है। वही 30 फीसदी प्रत्याशी दुग्ध व्यवसाय, पशुपालन से जुड़े हैं। जबकि कुछ प्रत्याशी पेट्रोल पंप, वेयर हाउस और गैस एजेंसियां संचालित करते हैं। खुद प्रत्याशियों ने चुनाव आयोग को दिए शपथ पत्र में इसका उल्लेख किया है। इन प्रत्याशियों में मुख्यमंत्री शिवराज समते मंत्री, विधायक और कई नेता शामिल है। 

प्रत्याशी का नाम और आमदनी के साधन

बालाघाट – भाजपा के प्रत्याशी और कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन की आमदनी का मुख्य स्रोत दुग्ध व्यवसाय है। वे दुग्ध व्यवसाय के अलावा वेतन भत्ते, पशुपालन और कृषि से सालाना 20 लाख से ज्यादा कमाते हैं।

डिंडौरी – खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री एवं शहपुरा से भाजपा प्रत्याशी ओमप्रकाश धुर्वे कृषि, पेट्रोल पंप और वेतन भत्तों से सालाना 18 लाख रुपए कमाते हैं

नरसिंहपुर- भाजपा सरकार में राज्यमंत्री और नरसिंहपुर से भाजपा के प्रत्याशी जालमसिंह पटेल सालाना 15 लाख से ज्यादा कमाते हैं। उनकी आय का मुख्य स्रोत कृषि, वेयर हाउस किराया और वेतन भत्ते हैं। 

श्योपुर – विजयपुर विधानसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी रामनिवास रावत वेतन, कृषि और ब्याज से करीब 15 लाख रुपए सालाना कमा रहे हैं।

भिंड – अटेर से भाजपा प्रत्याशी अरविंद भदौरिया की आय का मुख्य स्रोत कोचिंग क्लास, हॉस्टल, पेंशन और पारिवारिक संपत्ति से आने वाला किराया है। वे करीब 77 लाख रुपए सालाना कमाते हैं। भिंड – इसके साथ ही वर्तमान विधायक और कांग्रेस प्रत्याशी हेमंत कटारे का आय का भी साधन कृषि ही है।इससे वे सालाना तीन लाख रुपए कमाते है।

भिंड – भाजपा के टिकट पर भिंड से चुनाव मैदान में उतरे चौधरी राकेश सिंह, भितरवार से भाजपा प्रत्याशी अनूप मिश्रा, दतिया से भाजपा के नरोत्तम मिश्रा, पिछौर से कांग्रेस के प्रत्याशी केपी सिंह, लहार से कांग्रेस के डॉ. गोविंद सिंह की आय का मुख्य स्रोत खेती ही है।

गुना – पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के छोटे भाई, पूर्व सांसद और चांचौड़ा विधानसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह की आय भी कृषि पर आधारित है।

सागर – प्रदेश के गृहमंत्री और खुरई से भाजपा के उम्मीदवार भूपेंद्र सिंह कृषि के अलावा मैरिज गार्डन और डेयरी भी संचालित करते हैं।

रायसेन – प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री रामपाल सिंह की आमदनी भी कृषि पर आधारित है। वे सिलवानी से भाजपा के प्रत्याशी हैं।  

सीहोर- कांग्रेस के प्रत्याशी अरुण यादव की आय एक करोड़ रुपए से ज्यादा है। यादव की आमदनी के मुख्य स्रोत वेतन के अलावा कृषि और रिलायंस इंडस्ट्रीज सहित अन्य व्यवसाय हैं।