‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ योजना में एमपी नंबर वन, पीएस कांसोटिया एवं कमिश्रर डॉ. भार्गव होंगे सम्मानित

mp-got-first-position-in-beti-bacho-scheme-implementation-

भोपाल। मध्य प्रदेश का चयन केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी योजना ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ के लिए देश में नंबर वन स्थान मिला है। प्रदेश में इस योजना के क्रियान्वयन के लिए भारत सरकार ने एमपी को चुना है। यह राष्ट्रीय पुरस्कार गुरूवार, 24 जनवरी 2019 को दिल्ली में राष्ट्रीय बालिका दिवस पर आयोजित राष्ट्रीय पुरस्कार समारोह में दिया जाएगा। देश का पहला पुरस्कार प्राप्त करने के लिए मध्यप्रदेश से महिला एवं बाल विकास विभाग के प्रमुख सचिव जे. एन. कांसोटिया एवं महिला एवं बाल विकास संचालनालय के कमिश्रर डॉ. अशोक कुमार भार्गव को पुरस्कार प्राप्त करने के लिए आमंत्रित किया है। 

भारत सरकार महिला एवं बाल विकास मंत्रालय में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के निदेशक अशोक कुमार यादव ने मध्यप्रदेश सरकार को भेजे गए पत्र में बताया है कि यह पुरस्कार देश भर के पांच राज्यों को ही दिया जा रहा है, जिसमें मध्यप्रदेश पहले स्थान पर है। मध्यप्रदेश में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं अभियान के क्रियान्वयन में भारत सरकार के अभियान में अच्छा कार्य, बेहतर सहयोग एवं मजबूत निर्देशन एवं मार्गदर्शन के साथ साथ अभियान का धरातल पर क्रियान्वयन करने में सबसे अच्छा कार्य किया है। इस अभियान को पूरा हुए चार साल बीत गए हैं।

अभियान के मुख्य उद्देश्य

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के मुख्य उद्देश्यों में सामाजिक लिंग (जेंडर) आधारित लिंग चयन को समाप्त करना, बालिकाओं की उत्तराजीविता एवं उन्हें संरक्षण सुनिश्चित करना, बालिकाओं की शिक्षा सुनिश्चित करना, जेंडर आधारित भेदभाव को मिटाना इत्यादि है। योजना का समग्र लक्ष्य यही है कि बेटी के जन्म का उत्सव मनाना एवं उसे शिक्षा दिलाना है।