MP News : 18 साल से कम उम्र के खिलाड़ियों के लिए सुनहरा मौका, “मुख्यमंत्री कप” देगा उनके सपनों को उड़ान

"मुख्यमंत्री कप" का आयोजन 4 चरण में किया जायेगा। पहले चरण में ब्लॉक मुख्यालय, द्वितीय चरण में जिला मुख्यालय , तृतीय में दस संभागीय मुख्यालय और चतुर्थ चरण में राज्य स्तर पर संभाग से चयनित खिलाड़ी तथा खिलाड़ियों के दलों की लीग प्रतियोगिता होगी।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। देश और दुनिया के खेल मानचित्र पर नाम रोशन करने वाला मध्य प्रदेश (MP News) अब एक बार फिर नई प्रतिभाओं को तराशने जा रहा है। मध्य प्रदेश सरकार का खेल एवं युवा कल्याण विभाग नए खिलाड़ियों को तलाश कर उन्हें तराशने की तैयारी कर रहा है। इसके लिए 21 नवंबर से “मुख्यमंत्री कप” प्रतियोगिताओं (MP Chief Minister Cup Competitions) का आयोजन किया जा रहा है।

आपको बता दें कि “मुख्यमंत्री कप” की शुरूआत वर्ष 2015-16 से हुई। खेल और युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया (Sports Minister Yashodhara Raje Scindia) द्वारा यह निर्णय लिया गया कि प्रदेश में संचालित विभिन्न खेल अकादमियों में ग्रामीण स्तर पर प्रतिभाओं को खोज कर प्रशिक्षण दिया जाए। “मुख्यमंत्री कप” का मुख्य उद्देश्य खेल के प्रति युवाओं में जागरूकता पैदा करना, खेल को सर्व-सुलभ बनाना, प्रतिभावान खिलाड़ियों की पहचान विकासखण्ड एवं ग्राम स्तर पर करना और प्रतिभावान एवं उदीयमान खिलाड़ियों को पर्याप्त प्रशिक्षण उपलब्ध कराना है।

सरकार के इस फैसले के बाद “मुख्यमंत्री कप” इसी उद्देश्य के साथ आयोजित हो रहा है।  21 नवंबर 2022 से शुरू हो रहे  “मुख्यमंत्री कप” का आयोजन 4 चरण में किया जायेगा। पहले चरण में ब्लॉक मुख्यालय, द्वितीय चरण में जिला मुख्यालय , तृतीय में दस संभागीय मुख्यालय और चतुर्थ चरण में राज्य स्तर पर संभाग से चयनित खिलाड़ी तथा खिलाड़ियों के दलों की लीग प्रतियोगिता होगी।

ब्लॉक में एथलेटिक्स, कबड्डी, कुश्ती, व्हालीबाल, फुटबाल और खो-खो की प्रतियोगिता स्थानीय खेल निकाय, क्लब, विद्यालय, खेल संघों एवं ग्राम पंचायत के खिलाड़ियों-खेल दलों को सम्मिलित कर लीग आधार पर होगी। ब्लॉक में चयनित खिलाड़ियों को ही जिला, संभाग एवं राज्य स्तर की प्रतियोगिता में शामिल किया जायेगा।

खास बात ये है कि “मुख्यमंत्री कप” में 18 वर्ष से कम आयु समूह के बालक एवं बालिका खिलाड़ी ही सम्मिलित होंगे। आयु की गणना 31 दिसम्बर 2022 से की जायेगी। खिलाड़ी को मध्य प्रदेश का मूल निवासी होना अनिवार्य है। आयु का प्रत्येक प्रतियोगिता स्तर पर सत्यापन अनिवार्य होगा। आयु सत्यापन में त्रुटि पाये जाने पर खिलाड़ी को उस खेल प्रतियोगिता से निष्कासित किया जायेगा।