MP News : सीधी दुष्कर्म मामले पर आशीष अग्रवाल ने कमलनाथ को दी नसीहत, कहा – संवेदनशील विषय पर अपनी लुटी-पिटी राजनीति न चमकाएं कांग्रेस नेता

ये वही हैं जिन्होंने मुख्यमंत्री बनकर बेटियों की कन्यादान की राशि को 'डकारा' था और जनजातीय बहनों को मिलने वाली राशि पर 'डाका' डाला था? याद रखिए 'मिस्टर करप्शननाथ' कि यह भाजपा की मोहन सरकार है जहां महिलाओं के साथ होने वाले हर अपराध को सख्ती कुचला भी जाता है और उनके हौसलों को ध्वस्त किया जाता है।

Ashish Aggarwal Kamal Nath

 MP News : मध्य प्रदेश के सीधी में आदिवासी छात्राओं के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है लेकिन इस पर सियासत भी तेज हो गई है, पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी इस एलेकर प्रदेश सरकार पर हमलावर हैं, उधर मुख्यमंत्री द्वारा घटना की जाँच के लिए SIT गठित किये जाने के बाद अब भाजपा ने कांग्रेस पर पलटवार किया है, भाजपा प्रदेश मीडिया प्रभारी आशीष अग्रवाल ने इसे लेकर कमलनाथ पर निशाना साधा है।

आशीष अग्रवाल ने X पर लिखा- मध्य प्रदेश के ‘माथे पर कलंक’ लगाने की साज़िश बंद कीजिए कमलनाथ, राजनीतिक रोटियां सेकने वाले कांग्रेसी याद रख लें कि मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार अपराधी और अपराध के खिलाफ जीरो टॉलरेन्स की नीति रखती है। सीधी की घटना को लेकर मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव जी ने गंभीरता के साथ तत्परता दिखाते हुए मामले की जांच के सख्त आदेश दिए है घटना की जाँच SIT करेंगी, जिसकी कमान महिला एसडीओपी को दी गई है। इस मामले में पाक्सो एक्ट के तहत कार्यवाही होगी जिससे दुष्कर्म करने वालों को सबक तो मिलेगा, साथ ही महिलाओं पर आंख उठाने वालों की भी रूंह कांप उठेगी।

कांग्रेस नेताओं के बयानों को लेकर आशीष अग्रवाल ने कसा तंज 

भाजपा नेता ने कहा कि महिलाओं में ‘चाशनी’ व ‘रस ढूंढने’ वाले और उन्हें ‘आइटम’ कहने वाले कांग्रेसियों से निवेदन है कि कृपया संवेदनशील विषय पर तो आप ‘झूठ का झुनझुना’ बजाकर अपनी लुटी-पिटी राजनीति न चमकाएं। कांग्रेस के वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष दुष्कर्म पीड़िता की जानकारी सार्वजानिक करते हैं तो उनके वरिष्ठ कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष को दुष्कर्म जैसे संवेदनशील विषय पर भी राजनीति सूझ रही है।

कमलनाथ पर लगाया बेटियों के कन्यादान की राशि डकारने का आरोप 

आशीष अग्रवाल ने कहा ये वहीं कमलनाथ हैं जो चुनाव के दौरान प्रदेश से गायब रहे, विदेश में छुट्टी मना रहे थे और जब मध्य प्रदेश आते थे तो ‘मिस्टर इंडिया’ बनकर सिर्फ और सिर्फ बेटे नकुलनाथ की राजनीति चमकाने में लगे हुए थे। इन्हें ना तो कांग्रेस से मतलब था ना जनता से सरोकार था। ये वही हैं जिन्होंने मुख्यमंत्री बनकर बेटियों की कन्यादान की राशि को ‘डकारा’ था और जनजातीय बहनों को मिलने वाली राशि पर ‘डाका’ डाला था? याद रखिए ‘मिस्टर करप्शननाथ’ कि यह भाजपा की मोहन सरकार है जहां महिलाओं के साथ होने वाले हर अपराध को सख्ती कुचला भी जाता है और उनके हौसलों को ध्वस्त किया जाता है।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ....पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....