MP : कॉलेज छात्रों को लेकर उच्च शिक्षा विभाग के दो बड़े फैसले

पहला सरकारी कॉलेजों (Government colleges) में अब प्रभारी प्राचार्य पढ़ाई नहीं कराएंगे, वे सिर्फ प्रबंधन संभालेंगे।दूसरा जिन कॉलेजों (College) में स्टूडेंट्स (Students) की संख्या कम है वे बंद नहीं मर्ज किए जाएंगे।

कॉलेज

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। नए साल (New Year 2021) के आगमन से पहले मध्यप्रदेश (MP) के उच्च शिक्षा विभाग (Higher Education Department)  ने दो बड़े फैसले लिए है। पहला सरकारी कॉलेजों (Government colleges) में अब प्रभारी प्राचार्य पढ़ाई नहीं कराएंगे, वे सिर्फ प्रबंधन संभालेंगे।दूसरा जिन कॉलेजों (College) में स्टूडेंट्स (Students) की संख्या कम है वे बंद नहीं मर्ज किए जाएंगे।

यह भी पढ़े.. MP : उच्च शिक्षा विभाग ने कॉलेज छात्रों को दी एक और बड़ी राहत

दरअसल, मंगलवार को भोपाल (Bhopal) में प्रेसवार्ता के दौरान  शिवराज सरकार (Shivraj Government) में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव (Dr. Mohan Yadav) ने यह जानकारी दी है। यादन ने कहा कि मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में  सरकारी कॉलेजों (Government colleges) में अब प्रभारी प्राचार्य पढ़ाई नहीं कराएंगे, वे सिर्फ प्रबंधन संभालेंगे।इसके लिए नए अतिथि विद्वान (Guest-Scholar) रखे जाएंगे। हर कॉलेज में वरिष्ठता के आधार पर तीन-तीन प्राध्यापकों को प्रबंधन का प्रशिक्षण दिया जाएगा जो 14 जनवरी से 13 फरवरी 2021 तक चलेगा। इस दौरान जो प्राध्यापक प्रभारी प्राचार्य , उसे प्रभार सौंपा जाएगा।

इसके अलावा 51 कॉलेज बंद करने के सवाल पर मंत्री मोहन यादव ने कहा कि जिन कॉलेजों (College) में स्टूडेंट्स (Students) की संख्या कम है वे बंद नहीं मर्ज किए जाएंगे। कोई भी कॉलेज बंद नहीं किए जाएंगे। लंबे समय से विद्यार्थियों की संख्या सीमित है, उन्हें मर्ज (संविलियन) करने पर विचार चल रहा है। वही उन्होंने बताया कि अतिथि विद्वानों को लेकर हर हफ्ते पद निकाले जा रहे है। इसमें पिछले साल सेवा से हटाए गए अतिथि विद्वान च्वाइस फिलिंग कर सकते हैं,  उन्हें तुरंत ज्वाइन कराया जा रहा है।

यह भी पढ़े… MP News : कॉलेज खोलने को लेकर उच्च शिक्षा विभाग की Guideline जारी, पढ़िए यहां

बता दें कि राज्य शासन द्वारा जिन 51 कॉलेजों को बंद करने का विचार किया जा रहा है, उनमें इस साल 3000 विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है, जिन्हें दूसरे कॉलेजों में शिफ्ट किया जाएगा।इन कॉलेजों में छात्रों की संख्या 100 से भी कम है। वही इन कॉलेजों में प्रोफेसरों की संख्या भी 5 से अधिक नहीं है। कॉलेज अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति के बाद चल रहे हैं। जिन्हें नजदीक के किसी कॉलेज में स्थानांतरित करने की तैयारी की गई है।

इन जिलों के कॉलेज होंगे मर्ज

सतना के 4 कॉलेज, शिवपुरी, सिंगरौली, उज्जैन, डिंडोरी और सीधी में 3-3, अनूपपुर, सीहोर, हरदा, शहडोल, मंडला, रायसेन, धार बुरहानपुर, बड़वानी, शयोपुर में 2-2, अशोक नगर, छिंदवाड़ा, आगर मालवा, ग्वालियर, होशंगाबाद, कटनी, मंदसौर, मुरैना, नीमच, कटनी, सागर, रतलाम में 1-1।