MP: लापरवाही पर बड़ी कार्रवाई, 5 शिक्षक तत्काल प्रभाव से निलंबित, प्रभारी दरोगा पर भी गिरी गाज

कार्यक्रम में पूर्व अनुमति के अनुपस्थित रहने पर 4 शिक्षकों को जिला शिक्षा अधिकारी ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।

MP NEWS

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में सरकारी कामों में लापरवाही पर बड़ी कार्रवाई की गई है। बैतूल में स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार के कार्यक्रम में पूर्व अनुमति के अनुपस्थित रहने पर 4 शिक्षकों को जिला शिक्षा अधिकारी ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। इन्हीं शिक्षकों ने पेंशन को लेकर मंत्री के सामने नारेबाजी भी की थी। कार्यक्रम प्रभात पट्टन में आयोजित था।

यह भी पढ़े..कर्मचारियों-पेंशनरों के लिए गुड न्यूज, पुरानी पेंशन योजना बहाली पर अपडेट, मसौदा तैयार, जल्द कैबिनेट में आएगा

जिला शिक्षा अधिकारी ने प्राथमिक शाला सिरसावाड़ी के प्राथमिक शिक्षक भोजराव गुजरे, सीएसी जन शिक्षा केन्द्र प्रभातपट्टन के प्राथमिक शिक्षक रमेश कुमार बारस्कर, प्राथमिक शाला सालबड़ी के प्राथमिक शिक्षक सुनील घोरमाड़े एवं माध्यमिक शाला मालेगांव के प्राथमिक शिक्षक अशोक साहू शामिल हैं। उक्त शिक्षकों द्वारा प्रदेश के स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री इंदर सिंह परमार के कार्यक्रम के दौरान शैक्षणिक कार्य से अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित होकर व्यवधान उत्पन्न किया गया था।

स्वच्छता सर्वेक्षण 2023 के अन्तर्गत नगर निगम द्वारा किए जा रहे सफाई कार्यों में लापरवाही बरतने पर देवास आयुक्त विशालसिह चौहान नगर निगम ने एक प्रभारी दरोगा को निलंबित कर दिया। आयुक्त ने वार्ड क्रमांक 34 में सुचारू रूप से सफाई व्यवस्था नही होने तथा वार्ड में गंदगी पाई जाने पर वार्ड 34 के प्रभारी दरोगा (मूल पद सफाई संरक्षक) दिनेश पिता सुरजमल हंस को आयुक्त द्वारा तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया। आयुक्त ने वार्ड क्रमांक 34 की सफाई व्यवस्था का कार्य वार्ड 35 के प्रभारी दरोगा मदन पंवार को सौंपा गया है।

यह भी पढ़े..कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, रिटायरमेंट की उम्र में वृद्धि, इन्हें नहीं मिलेगा लाभ, जानें अपडेट

इसके साथ ही शिवपुरी में जिला शिक्षा अधिकारी ने नशे में धुत्त शिक्षक मनोहर सिंह बुदेंला को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। एसडीएम बृजेंद्र सिंह यादव ने जिला शिक्षा अधिकारी को प्रस्ताव बना कर उक्त शिक्षक का यह कृत्य शासकीय कार्य में घोर लापरवाही एवं शिक्षा के पवित्र मंदिर में मास मदिरा के सेवन से शिक्षा विभाग की छवि धूमिल होने के साथ – साथ अनुविभाग की भी बदनामी होना बताया था।उनका मुख्यालय पिछोर बीईओ कार्यालय रहेगा।